प्रेम मन्दिर  

प्रेम मन्दिर, वृंदावन

प्रेम मन्दिर उत्तर प्रदेश के मथुरा ज़िले की प्रसिद्ध नगरी वृंदावन में बना आधुनिक मन्दिर है। जिसका 17 फ़रवरी, 2012 को लोकार्पण हुआ। जाति, वर्ण और देश का भेद मिटाकर पूरे विश्व में प्रेम की सर्वोच्च सत्ता क़ायम करने के लिए भगवान श्रीकृष्णराधा रानी की दिव्य प्रेम लीलाओं की साक्षी वृंदावन नगरी में प्रेम मंदिर का निर्माण करवाया गया है।

स्थापना

इस मंदिर का निर्माण कृपालु जी महाराज ने करवाया। 14 जनवरी, 2001 को उन्होंने लाखों श्रद्धालुओं की उपस्थिति में प्रेम मंदिर का शिलान्यास किया था। उसी दिन से राजस्थान और उत्तर प्रदेश के क़रीब एक हज़ार शिल्पकार अपने हज़ारों श्रमिकों के साथ प्रेम मंदिर को गढ़ने में जुटे थे और 11 साल बाद यह साकार होकर सामने आया। इस मन्दिर के निर्माण में क़रीब 100 करोड़ रूपए की धनराशि का व्यय हुआ। कृपालु जी महाराज का कहना है कि जब तक विश्व में प्रेम की सत्ता सर्वोच्च स्थान हासिल नहीं करेगी, विश्व का आध्यात्मिक कल्याण सम्भव नहीं है।[1]

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 1.2 1000 कारीगरों ने 11 साल में बनाया अनूठा प्रेम मंदिर (हिन्दी) IBN Khabar। अभिगमन तिथि: 31 मार्च, 2012।

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=प्रेम_मन्दिर&oldid=575202" से लिया गया