पुष्य नक्षत्र  

पुष्य नक्षत्र कर्क राशि के 3-20 अंश से 16-40 अंश तक है। यह नक्षत्र सर्वश्रेष्ठ माना जाता है।

अर्थ - पोषण
देव - बृहस्पति

  • इसे 'ज्योतिष्य और अमरेज्य' भी कहते हैं। अमरेज्य शब्द का अर्थ है- देवताओं का पूज्य।
  • इस नक्षत्र का स्वामी ग्रह शनि है, पर इसके गुण गुरु के गुणों से अधिक मिलते हैं।
  • पुष्य में बृहस्पति का व्रत और पूजन किया जाता है।
  • पुष्य नक्षत्र के देवता शनि को माना जाता है।
  • पीपल के पेड को पूष्य नक्षत्र का प्रतीक माना जाता है और पुष्य नक्षत्र में जन्म लेने वाले लोग पीपल वृक्ष की पूजा करते है।
  • इस नक्षत्र में जन्म लेने वाले लोग अपने घर के ख़ाली हिस्से में पीपल वृक्ष के पेड को भी लगाते है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=पुष्य_नक्षत्र&oldid=497828" से लिया गया