निखिल बैनर्जी  

निखिल बैनर्जी
निखिल बैनर्जी
पूरा नाम निखिल रंजन बैनर्जी
प्रसिद्ध नाम निखिल बैनर्जी
जन्म 14 अक्टूबर, 1931
जन्म भूमि 1931
मृत्यु 27 जनवरी, 1986
अभिभावक जितेन्द्रनाथ बैनर्जी
कर्म भूमि भारत
कर्म-क्षेत्र शास्त्रीय संगीत
पुरस्कार-उपाधि 1987 पद्म भूषण, 1974 संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार, 1968 पद्म श्री
प्रसिद्धि सितार वादक
संबंधित लेख अली अकबर ख़ाँ, पन्नालाल घोष, अलाउद्दीन ख़ाँ
अन्य जानकारी निखिल रंजन बैनर्जी 20वीं सदी में भारत के प्रमुख सितार वादकों में से एक थे।
अद्यतन‎

निखिल रंजन बैनर्जी (अंग्रेज़ी: Nikhil Ranjan Banerjee, जन्म: 14 अक्टूबर, 1931; मृत्यु: 27 जनवरी, 1986) 20वीं सदी में भारत के प्रमुख सितार वादकों में से एक थे।

आरंभिक जीवन

निखिल बैनर्जी का जन्म 14 अक्टूबर, 1931 में पश्चिम बंगाल राज्य के एक ब्राह्मण घराने में हुआ था। निखिल रंजन बैनर्जी को सितार बजाना इनके पिता जितेन्द्रनाथ बैनर्जी ने सिखाया। सितार बजाने की उनमें बचपन से ही विलक्षण प्रतिभा थी। निखिल रंजन बैनर्जी ने नौ साल की उम्र में अखिल भारतीय सितार प्रतियोगिता जीती और जल्द ही ऑल इंडिया रेडियो पर सितार बजाने लगे। शुरुआती प्रशिक्षण के लिए जितेन्द्रनाथ के अनुरोध पर मुश्ताक़ अली ख़ाँ ने निखिल बैनर्जी को अपना शिष्य बनाया। निखिल बैनर्जी उस्ताद अलाउद्दीन ख़ाँ से शिक्षा प्राप्त करना चाहते थे, लेकिन अलाउद्दीन ख़ाँ और शिष्य नहीं चाहते थे। अन्त में रेडियो पर निखिल बैनर्जी का सितार वादन सुनने पर अलाउद्दीन ख़ाँ ने अपना निर्णय बदला। मुख्यत: निखिल बैनर्जी उस्ताद अलाउद्दीन ख़ाँ के शिष्य थे, लेकिन उन्होंने अली अकबर ख़ाँ से भी शिक्षा प्राप्त की।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=निखिल_बैनर्जी&oldid=618792" से लिया गया