नारायण श्रीधर बेन्द्रे  

नारायण श्रीधर बेन्द्रे
नारायण श्रीधर बेन्द्रे
पूरा नाम नारायण श्रीधर बेन्द्रे
जन्म 21 अगस्त, 1910
जन्म भूमि इंदौर, मध्य प्रदेश
मृत्यु 19 फ़रवरी, 1992
कर्म भूमि भारत
पुरस्कार-उपाधि 'पद्मश्री' (1969), 'अबन गगन पुरस्कार' (1984), 'कालिदास सम्मान'।
प्रसिद्धि चित्रकार
नागरिकता भारतीय
अन्य जानकारी 1948 में नारायण श्रीधर बेंद्रे ने यूएसए की यात्रा की और न्यूयॉर्क की विंडर मेयर गैलरी में अपने चित्रों की प्रदर्शनी की।

नारायण श्रीधर बेन्द्रे (अंग्रेज़ी: Narayan Shridhar Bendre, जन्म- 21 अगस्त, 1910; मृत्यु- 19 फ़रवरी, 1992) प्रसिद्ध भारतीय चित्रकार थे। उनको पहली सार्वजनिक मान्यता 1934 में मिली, जब उन्हें बाम्बे आर्ट सोसायटी का रजत पदक प्रदान किया गया। 1941 में इसका सर्वोच्च सम्मान स्वर्ण पदक भी उन्होंने प्राप्त किया। 1969 में भारत सरकार ने उन्हें 'पद्मश्री' से सम्मानित किया था।

परिचय

नारायण श्रीधर बेंद्रे का जन्म 21 अगस्त, 1910 को मध्य प्रदेश के इंदौर नगर में हुआ। कला की प्रारंभिक शिक्षा उन्होंने राजकीय कला विद्यालय, इंदौर से प्राप्त की और उच्च शिक्षा 1933 में गवर्नमेंट डिप्लोमा, बंबई (वर्तमान मुम्बई) से। पर्यटन की अभिरूचि के कारण उन्होंने अनेक यात्राएं कीं और इन यात्रा दृश्यों को अपनी कलाकृतियों भिन्न-भिन्न शैलियों में ढाल कर प्रस्तुत किया। उनका समस्त कला जीवन ऐसे अनुभवों से परिपूर्ण है।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें
"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=नारायण_श्रीधर_बेन्द्रे&oldid=634681" से लिया गया