नारायण भास्कर खरे  

नारायण भास्कर खरे
Narayan-Bhaskar-Khare.png
जन्म 19 मार्च, 1884
जन्म भूमि पनवेल, महाराष्ट्र
मृत्यु 1969
अभिभावक नारायण बल्ला खरे
नागरिकता भारतीय
पार्टी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
पद मुख्यमंत्री
कार्य काल 1937-1938
शिक्षा डॉक्टर ऑफ़ मेडिसिन (एम. डी.)
विद्यालय लाहौर मेडिकल कॉलेज
अन्य जानकारी नारायण भास्कर खरे हिंदू महासभा में सम्मिलित होकर उसके अध्यक्ष बन और सभा की ओर से ही संविधान परिषद और 1952 से 1957 तक लोकसभा के सदस्य रहे।
अद्यतन‎

नारायण भास्कर खरे (अंग्रेज़ी:Narayan Bhaskar Khare, जन्म- 19 मार्च, 1884, पनवेल, महाराष्ट्र; मृत्यु- 1970) प्रमुख सार्वजनिक कार्यकर्ता, चिकित्सक एवं मध्य प्रदेश के भूतपूर्व मुख्यमंत्री रह चुके थे। वह हिंदू महासभा के अध्यक्ष रहे थे।

प्रारम्भिक जीवन

डॉ. नारायण भास्कर खरे का जन्म 16 मार्च, 1882 को महाराष्ट्र के पनवेल में हुआ था। उनके पिता नारायण बल्ला खरे वकील थे। लाहौर मेडिकल कॉलेज से एम. डी. की डिग्री पाने वाले वह पहले व्यक्ति थे। परीक्षा पास करने के बाद कुछ वर्षों तक वे मध्य प्रदेश और बरार की स्वास्थ्य सेवाओं में काम करते रहे, परंतु अंग्रेज़ अधिकारियों के अपमानजनक व्यवहार के कारण उन्होंने 1916 में इस्तीफ़ा दे दिया और नागपुर में निजी प्रैक्टिस करने लगे।[1]

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 भारतीय चरित कोश |लेखक: लीलाधर शर्मा 'पर्वतीय' |प्रकाशक: शिक्षा भारती, मदरसा रोड, कश्मीरी गेट, दिल्ली |पृष्ठ संख्या: 425 |

बाहरी कड़ियाँ

डॉ. नारायण खरे

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=नारायण_भास्कर_खरे&oldid=592160" से लिया गया