नागरिक शास्त्र सामान्य ज्ञान  

सामान्य ज्ञान प्रश्नोत्तरी
राज्यों के सामान्य ज्ञान

पन्ने पर जाएँ

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28 | 29 | 30 | 31 | 32 | 33 | 34 | 35 | 36 | 37 | 38 | 39 | 40 | 41 | 42 | 43 | 44 | 45 | 46 | 47 | 48 | 49 | 50 | 51 | 52 | 53 | 54 | 55 | 56 | 57 | 58 | 59 | 60 | 61 | 62 | 63 | 64 | 65 | 66| 67 | 68 | 69 | 70 | 71 | 72 | 73 | 74 | 75 | 76 | 77| 78 | 79| 80 | 81 | 82 | 83 | 84 | 85 | 86 | 87 | 88 | 89 | 90 | 91 | 92 | 93 | 94 | 95 | 96 | 97 | 98 | 99 | 100 | 101 | 102 | 103 | 104 | 105 | 106 | 107 | 108 | 109 | 110 | 111 | 112 | 113 | 114 | 115 | 116| 117 | 118 | 119 | 120 | 121 | 122 | 123

1. मार्क्स के अनुसार राज्य के गठन का आसन्न कारण क्या था?

शोषण
सामंतवाद
असमाधेय वर्ग संघर्ष
पूंजीवाद
मार्क्स के अनुसार, राज्य की उत्पत्ति का कारण वर्ग संघर्ष की असमाधेय स्थिति है। एंजेल्स ने अपनी प्रशंसनीय पुस्तक 'ऑरिजिन ऑफ फैमिली, प्राइवेट प्रॉपर्टी एण्ड द स्टेट' में राज्य की उत्पत्ति और स्वरूप के विषय में लिखा है कि 'यह समाज के विकास के एक निश्चित चरण की उपज है। यह इस बात की स्वीकृति है कि समाज ऐसे वर्ग अंतर्विरोध (संघर्ष) का शिकार है जिसका कोई हल नहीं है। ये वर्ग संघर्ष समाज और वर्गों को भस्म न कर दे इसलिए प्रकट रूप से राज्य की आवश्यकता हुई जो इस संघर्ष पर नियंत्रण कर सके और व्यवस्था के अंतर्गत सीमित रख सके। इस संदर्भ में लेकिन का भी यही निष्कर्ष है कि 'राज्य वर्ग संघर्षों' की, जिनमें कोई समझौता सम्भव नहीं है, उपज और अभिव्यक्ति है।

2. "राष्ट्रीयता सभ्यता के लिए एक खतरा है" किसने कहा है?

रवींद्रनाथ टैगोर
महात्मा गाँधी
जे.एस. मिल
मैकियावेली
"राष्ट्रीयता सभ्यता के लिए एक खतरा है", यह कथन रवींद्रनाथ टैगोर का है। रवींद्रनाथ टैगोर की विचारधारा में विश्वबंधुत्व का तत्त्व गहरे से समाया हुआ था। उनका मानवतावाद सीमाहीन था। उनके मानवतावाद में जाति, धर्म, भाषा, रंग एवं सीमा जैसे तत्त्वों का कोई स्थान नहीं था। वे विश्वबंधुत्व के पोषक थे और विश्व की समस्त संस्कृतियों को सुंदर मानते थे। वे भारतीय शिक्षा प्रणाली में अंग्रेज़ी भाषा के विरोधी थे। इस प्रकार स्पष्ट है कि राष्ट्रवादी होने के साथ वे अंतर्राष्ट्रीयतावाद के भी समर्थक थे।

3. कौन-सी विचारधारा समर्थन करती है कि "तथ्य अनिवार्यत: तकनीक से पूर्व है"?

व्यवहारवाद
अस्तित्ववाद
उत्तर-व्यवहारवाद
प्रत्यक्षवाद
व्यवहारवाद वैज्ञानिक पद्धति पर बल देते हुए मूल्य-निरक्षेप उपागम का समर्थन करता है। व्यवहारवादी ऐसे किसी कथन को मान्यता नहीं देते, जिसकी वैज्ञानिक स्तर पर पुष्टि नहीं की जा सकती है। व्यवहारवाद सामाजिक स्थिरता पर बल देता रहा है, अत: उसने अपना ध्यान तथ्यों के विश्लेषण तक सीमित रखा है। व्यवहारवादी विचारधारा तथ्य को अनिवार्यत: तकनीक से पूर्व मानती है।

4. आधुनिक राजनीतिक सिद्धांत के प्रमुख समर्थक कौन हैं?

चार्ल्स मेरियम
डेविड ईस्टन
हैरॉल्ड लासवेल
उपर्युक्त सभी
आधुनिक राजनीतिक सिद्धांत के प्रमुख समर्थक हैं- चार्ल्स मेरियम, ग्राहम वालास, लिओनार्ड ह्वाइट, क्विंसी राइट, हैरल्ड लासवेल, फ़्रेडरिक शूमैन, वी.ओ.की. जूनियर, गेब्रीयल आमंड, हर्बर्ट साइमन, डेविड ट्रूमैन, डेविड ईस्टन, कैटलिन।

5. राज्य की उत्पत्ति के संबंध में ऐतिहासिक सिद्धांत किसके द्वारा प्रतिपादित किया गया था?

हेनरी मेन
ट्राइट्सके
ओपेनहाइमर
दुर्खीम
राज्य की उत्पत्ति के संबंध में ऐतिहासिक अथवा विकासवादी सिद्धांत का प्रतिपादन सर हेनरी मेन द्वारा किया गया। इन्होंने अपनी पुस्तक 'An- cient Law' (1861) में माना कि समाजों की उत्पत्ति प्रस्थिति से संविदा में हुई है, अर्थात् प्रारंभिक समाजों में मनुष्यों के समाजिक संबंध, प्रस्थिति या स्थिर स्थिति से निर्धारित होते थे। इनके अनुसार, सामाजिक संबंधों में एकता का प्रारंभिक बंधन रक्त संबंध ही था, जो राज्य के विकास में प्रमुख सहायक तत्त्व है। अन्य महत्त्वपूर्ण तथ्य- बेजहाट राज्य के विकास को डार्विन के उद्विकास सिद्धांत से जोड़कर देखते हैं। वे विभिन्न समाजों के विकास में संघर्ष व नव प्रवर्तन (Innovation) को ज़रूरी मानता है। बेजहाट ने 'चर्चा की प्रवृत्ति' (Instinct of Discussion) को समाज के प्रगतिशीलता के लिए आवश्यक माना है।

आपके कुल अंक है 0 / 0

पन्ने पर जाएँ

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28 | 29 | 30 | 31 | 32 | 33 | 34 | 35 | 36 | 37 | 38 | 39 | 40 | 41 | 42 | 43 | 44 | 45 | 46 | 47 | 48 | 49 | 50 | 51 | 52 | 53 | 54 | 55 | 56 | 57 | 58 | 59 | 60 | 61 | 62 | 63 | 64 | 65 | 66| 67 | 68 | 69 | 70 | 71 | 72 | 73 | 74 | 75 | 76 | 77| 78 | 79| 80 | 81 | 82 | 83 | 84 | 85 | 86 | 87 | 88 | 89 | 90 | 91 | 92 | 93 | 94 | 95 | 96 | 97 | 98 | 99 | 100 | 101 | 102 | 103 | 104 | 105 | 106 | 107 | 108 | 109 | 110 | 111 | 112 | 113 | 114 | 115 | 116| 117 | 118 | 119 | 120 | 121 | 122 | 123
सामान्य ज्ञान प्रश्नोत्तरी
राज्यों के सामान्य ज्ञान
"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=नागरिक_शास्त्र_सामान्य_ज्ञान&oldid=616968" से लिया गया