नवतीर्थ मथुरा  

  • असिकुण्ड तीर्थ के उत्तर में नवतीर्थ है । यहाँ स्नान करने से भक्ति की नवनवायमान रूप में उत्तरोत्तर वृद्धि होती है । इससे बढ़कर तीर्थ न हुआ है, और न होगा ।
उत्तरे त्वसिकुण्डाञ्च तीर्थन्तु नवसंश्रकम् ।
नवतीर्थात् परं तीर्थ न भूतं न भविष्यति ।।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=नवतीर्थ_मथुरा&oldid=173042" से लिया गया