नज़ीर अकबराबादी  

नज़ीर अकबराबादी
नज़ीर अकबराबादी
पूरा नाम नज़ीर अकबराबादी
अन्य नाम वली मुहम्मद (वास्तविक नाम)
जन्म 1735
जन्म भूमि दिल्ली
मृत्यु 1830
अभिभावक मुहम्मद फ़ारुक
पति/पत्नी तहवरुनिस्सा बेगम
संतान गुलज़ार अली (पुत्र) और इमामी बेगम (पुत्री)
कर्म भूमि आगरा
कर्म-क्षेत्र शायर
मुख्य रचनाएँ बंजारानामा, दूर से आये थे साक़ी, फ़क़ीरों की सदा, है दुनिया जिसका नाम, शहरे आशोब आदि
भाषा अरबी, फ़ारसी, उर्दू, पंजाबी, ब्रजभाषा, मारवाड़ी, पूरबी और हिन्दी
नागरिकता भारतीय
इन्हें भी देखें कवि सूची, साहित्यकार सूची
नज़ीर अकबराबादी की रचनाएँ

नज़ीर अकबराबादी (अंग्रेज़ी: Nazeer Akbarabadi, जन्म: 1740 - मृत्यु: 1830) उर्दू में नज़्म लिखने वाले पहले कवि माने जाते हैं। समाज की हर छोटी-बड़ी ख़ूबी को नज़ीर साहब ने कविता में तब्दील कर दिया। तथाकथित साहित्यालोचकों ने नज़ीर साहब को आम जनता की शायरी करने के कारण उपेक्षित किया। ककड़ी, जलेबी और तिल के लड्डू जैसी वस्तुओं पर लिखी गई कविताओं को आलोचक कविता मानने से इन्कार करते रहे। बाद में नज़ीर साहब की 'उत्कृष्ट शायरी' को पहचाना गया और आज वे उर्दू साहित्य के शिखर पर विराजमान चन्द नामों के साथ बाइज़्ज़त गिने जाते हैं। लगभग सौ वर्ष की आयु पाने पर भी इस शायर को जीते जी उतनी ख्याति नहीं प्राप्त हुई जितनी कि उन्हें आज मिल रही है। नज़ीर की शायरी से पता चलता है कि उन्होंने जीवन-रूपी पुस्तक का अध्ययन बहुत अच्छी तरह किया है। भाषा के क्षेत्र में भी वे उदार हैं, उन्होंने अपनी शायरी में जन-संस्कृति का, जिसमें हिन्दू संस्कृति भी शामिल है, दिग्दर्शन कराया है और हिन्दी के शब्दों से परहेज़ नहीं किया है। उनकी शैली सीधी असर डालने वाली है और अलंकारों से मुक्त है। शायद इसीलिए वे बहुत लोकप्रिय भी हुए।[1]

जीवन परिचय

दिल्ली के 'मुहम्मद फ़ारुक' के घर बारह बच्चे पैदा हुए किंतु एक भी जीवित नहीं रहा। 1735 ई. में तेरहवें बच्चे के जन्म के समय पिता ने पीरों और फ़कीरों से तावीज़ लाकर अपने नवजात शिशु के जीवन की दुआ माँगी। बुरी नज़र से बचाने के लिए इस बालक के नाक और कान छिदवाए गए और इसे 'वली मुहम्मद' नाम दिया गया। आगे चलकर वली मुहम्मद ने ‘नज़ीर’ तख़ल्लुस से शायरी की और 'अकबराबाद' [2] में रहने के कारण नज़ीर अकबराबादी के नाम से प्रसिद्धि प्राप्त की।

जन्म

नज़ी़र की जन्मतिथि का किसी को पता नहीं है। डॉ. सक्सेना का ख़याल है कि वे नादिरशाह के दिल्ली में हमले के समय 1739 या 1740 ई. में पैदा हुए थे। प्रो. शहबाज़ के कथनानुसार उनका जन्म 1735 ई. में हुआ था। ख़ैर, यह अंतर कोई ख़ास नहीं है। उनका जन्मस्थान दिल्ली था। केवल एक तज़किरे के अनुसार वे आगरा में पैदा हुए थे लेकिन अन्य तज़किरों में जन्मस्थान दिल्ली ही को माना गया है।[3]

बचपन

1739 ई. में दिल्ली पर नादिरशाह का आक्रमण हुआ पर ‘नज़ीर’ के बचपन को इससे क्या लेना-देना था!

दिल में किसी के हरगिज़ नै शर्म नै हया है
आगा भी खुल रहा है पीछा भी खुल रहा है
पहने फिरे तो क्या है नंगे फिरे तो क्या है
यां यूं भी वाहवा है और वूं भी वाह वा है ...
कुछ खा ले इस तरह से कुछ उस तरह से खा ले
क्या ऐश लूटते हैं मासूम भोले-भाले॥

दिल्ली पर मुसीबतों के पहाड़ एक के बाद एक टूट पडे़। 1748, 1751 और 1756 में अहमद शाह अब्दाली के आक्रमण लगातार होते रहे। दिल्लीवासियों पर मौत का साया मंडरा रहा था। चारों ओर डर और खौ़फ़ का माहौल था। नज़ीर के नाना 'नवाब सुलतान खां' आगरा के क़िलेदार थे। दिल्ली के बुरे हालात देखकर ‘नज़ीर’ दिल्ली से अपनी ननिहाल आगरा[4]चले गए। उस समय उनकी आयु 22-23 वर्ष की थी। उन्होंने 'नूरी दरवाज़े' पर एक मकान लिया और फिर वहीं के होकर रह गए।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. नज़ीर अकबराबादी (हिंदी)। । अभिगमन तिथि: 26 दिसम्बर, 2012।
  2. आगरा का पहले नाम अकबराबाद था
  3. 3.0 3.1 3.2 3.3 3.4 3.5 नजीर अकबराबादी और उनकी शायरी (हिंदी) भारतीय साहित्य संग्रह। अभिगमन तिथि: 27 दिसम्बर, 2012।
  4. उस समय आगरा का नाम अकबराबाद था
  5. 5.0 5.1 5.2 5.3 जनता का शायर - ‘नज़ीर’ (हिंदी)। । अभिगमन तिथि: 26 दिसम्बर, 2012।
  6. नज़ीर अकबराबादी की नज़र होली पर (हिंदी)। । अभिगमन तिथि: 26 सिसम्बर, 2012।
और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=नज़ीर_अकबराबादी&oldid=601044" से लिया गया