धरमत  

धरमत आधुनिक मध्य प्रदेश में उज्जैन से 14 मील दूर गंभीरा नदी[1] के तट पर स्थित एक छोटा-सा ग्राम धरमत है।

  • धरमत मुग़ल काल में एक महत्त्वपूर्ण युद्ध के लिए जाना जाता है।
  • 15 अप्रैल, 1658 को जब शाहजहाँ बीमार था, तब इस स्थान पर शाही सेना, जिसका नेतृत्व दारा के साथ राजा जसवंतसिंह एवं कासिम अली कर रहे थे और औरंगजेब, जिसके साथ मुराद था, के मध्य युद्ध हुआ।[2]
  • इस युद्ध में शाही फ़ौज बुरी तरह परास्त हुई।
  • औरंगजेब ने विजयी होकर दिल्ली की और तेजी से प्रस्थान किया।
  • वह चम्बल नदी पार कर विजयी होकर दिल्ली की और तेजी से प्रस्थान किया।
  • वह चम्बल नदी पार कर आगरा से पूर्व में 8 मील पर स्थित सामूगढ़ पहुँचा, जहाँ दारा के नेतृत्व में शाही फ़ौज से उसकी पुनः मुठभेड़ हुई।
  • दारा पराजित होकर भाग खड़ा हुआ।

इन्हें भी देखें: धरमत का युद्ध


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. प्राचीन गंभीरा
  2. धरमत का युद्ध

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=धरमत&oldid=268844" से लिया गया