दोहरताल  

दोहरताल प्राचीन श्रावस्ती के खंडहरों (सहेतमहेत, गोंडा ज़िला, उत्तर प्रदेश) से एक मील (लगभग 1.6 कि.मी.) की दूरी पर स्थित एक ऐतिहासिक स्थान है, जो टंडवा नामक ग्राम के समीप है।[1]

  • टंडवा में बौद्ध कालीन कश्यप बुद्ध के स्तूप के भग्नावशेष प्राप्त हुए हैं।
  • भग्नावशेषों के उत्तर में दोहरताल या सीतादोहर नामक एक मील लम्बा ताल है, जिसके साथ कई प्राचीन किंवदंतियों का सम्बन्ध है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |पृष्ठ संख्या: 454 |
  • ऐतिहासिक स्थानावली | विजयेन्द्र कुमार माथुर | वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग | मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=दोहरताल&oldid=343859" से लिया गया