दुर्ग छत्तीसगढ़  

Disamb2.jpg दुर्ग एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- दुर्ग (बहुविकल्पी)

दुर्ग शहर, भुतपूर्व द्रुग, मध्य छत्तीसगढ़ राज्य में स्थित है। शिवनाथ नदी के पूर्वी तट पर, दुर्ग-भिलाई नगर शहरी संकेंद्रण का हिस्सा है। दुर्ग मुंबई-हावड़ा रेलमार्ग का एक महत्त्वपूर्ण स्टेशन है। ग्रेट ईस्टर्न सड़क दुर्ग से गुज़रती है। प्राचीन राज्य में यह कौशल राज्य का हिस्सा था। यहाँ मिट्टी के प्राचीन दुर्ग के अवशेष हैं, जिसका इस्तेमाल 1741 में मराठों ने छत्तीसगढ़ को अधीन करने के लिए अपने अभियान के आधार शिविर के रूप में किया था। उन्होंने ऊँचाई पर एक मोर्चाबंद शिविर भी स्थापित किया, जो अंतत: आधुनिक नगर में बदल गया। इस क़िले कल्प के चारों ओर खाई है, जिसमें छोटे-छोटे तालाब बन गए हैं।

उद्योग और व्यापार

छत्तीसगढ़ का दुर्ग एक प्रमुख कृषि बाज़ार है, जहाँ पर विभिन्न फ़सलों से सम्बन्धित कई मिलें हैं। यहाँ चावल एवं अरहर दाल की मिलें भी हैं। दुर्ग सर्वाधिक चना उत्पादन में सम्पूर्ण छत्तीसगढ़ में प्रथम है। भिलाई इस्पात संयंत्र की स्थापना के बाद इस शहर का ओद्योगिक केंद्र के रूप में महत्त्व बढ़ गया। यहाँ के लघु उद्योगों में पीपल और कांसे का काम (फुलकारी उत्पादन), तेल पेराई, धान कुटाई एवं बुनाई सहकारिता उद्योग शामिल हैं।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. पांचाल, ऋतुराज। दुर्ग (हिन्दी) यात्रा सलाह। अभिगमन तिथि: 22 जुलाई, 2011।
और पढ़ें
"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=दुर्ग_छत्तीसगढ़&oldid=495573" से लिया गया