थानेश्वर  

  • थानेश्वर संस्कृत साहित्य में वर्णित एक प्रख्यात प्राचीन नगर है।
  • यह आधुनिक दिल्ली तथा प्राचीन इंद्रप्रस्थ नगर के उत्तर में अम्बाला और करनाल के बीच स्थित था।
  • यह ब्रह्मावर्त क्षेत्र का केन्द्रबिन्दु था, जहाँ भारतीय आर्यों का सबसे पहले विस्तार हुआ।
  • इसी के निकट ही कुरुक्षेत्र स्थित है। जहाँ पर कौरवों तथा पाण्डवों के बीच अठारह दिनों तक विश्व प्रसिद्ध युद्ध हुआ था, जो महाभारत महाकाव्य का प्रमुख विषय है।
  • थानेश्वर को 'स्थानेश्वर' भी कहते हैं, जो कि शिव का पवित्र स्थान था।
  • छठी शताब्दी के अन्त में यह पुष्यभूति वंश की राजधानी बना और इसके शासक प्रभाकरनवर्धन ने इसे एक विशाल साम्राज्य, जिसके अंतर्गत मालवा, उत्तर-पश्चिम पंजाब और राजपूताना का कुछ भाग आता था, केन्द्रीय नगर बनाया।
  • प्रभाकरनवर्धन के छोटे पुत्र हर्षवर्धन के काल (606-647) में इसका महत्त्व घट गया। उसने अपने अपेक्षाकृत अधिक विशाल साम्राज्य की राजधानी कन्नौज को बनाया।
  • सातवीं और आठवीं शताब्दी में हूण आक्रमणों के फलस्वरूप इस नगर का तेज़ी से पतन हो गया। फिर भी यह हिन्दुओं का पवित्र तीर्थ स्थान बना रहा।
  • 1014 ई. में यह सुल्तान महमूद द्वारा लूटा तथा नष्ट कर दिया गया और अन्तत: पंजाब के गजनवी राज्य का एक अंग हो गया।
  • यह दिल्ली जाने वाली सड़क पर स्थित है।
  • इसके इर्द-गिर्द क्षेत्र में तराइन के दो तथा पानीपत के तीन युद्ध हुए, जिन्होंने कई बार भारत के भाग्य का निर्णय किया।
  • तृतीय मराठा युद्ध के उपरान्त यह भारतीय ब्रिटिश साम्राज्य का अंग हो गया।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=थानेश्वर&oldid=142600" से लिया गया