तेलुगु साहित्य  

तेलुगु साहित्य का विकास आरंभिक 16वीं शताब्दी में विजयनगर साम्राज्य में हुआ, जिसमें तेलुगु दरबारी भाषा थी।

  • आंध्र प्रदेश राज्य में बोली जाने वाली द्रविड़ भाषा तेलुगु का रचना संसार है।
  • 19वीं शताब्दी से इस भाषा में उपन्यास जैसे पश्चिमी साहित्यिक स्वरूपों में भी प्रयोग किए गए।
  • 10वीं या 11वीं शताब्दी से रचित इस साहित्य में मुख्यतः काव्य और धर्मनिरपेक्ष व धार्मिक महाकाव्य हैं, जिनमें शतक (100 छंद) एक अत्यंत लोकप्रिय स्वरूप है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=तेलुगु_साहित्य&oldid=276930" से लिया गया