तलत महमूद  

तलत महमूद
तलत महमूद
पूरा नाम तलत महमूद
अन्य नाम तपन कुमार
जन्म 24 फरवरी, 1924
जन्म भूमि लखनऊ
मृत्यु मृत्यु-9 मई, 1998
मृत्यु स्थान मुंबई
अभिभावक मंजूर महमूद
संतान ख़ालिद महमूद
कर्म भूमि मुंबई, कोलकाता
कर्म-क्षेत्र गायक तथा अभिनेता
मुख्य फ़िल्में 'मालिक', 'सोने की चिड़िया', 'एक गाँव की कहानी', 'दीवाली की रात', 'रफ़्तार', 'डाक बाबू', 'वारिस', 'दिल-ए-नादान', 'तुम और मैं', 'राजलक्ष्मी' आदि।
पुरस्कार-उपाधि 'पद्मभूषण' (1992)
प्रसिद्धि ग़ज़ल गायक
विशेष योगदान 'ग़ज़ल' गायकी को श्रेष्ठता व सम्मान दिलाने में आपका ख़ास योगदान था।
नागरिकता भारतीय
अन्य जानकारी तलत जी ने हिन्दी फ़िल्मों में आखिरी बार 'जहाँआरा' के लिए गाया। इस फ़िल्म का संगीत मदन मोहन ने दिया था।
बाहरी कड़ियाँ *आधिकारिक वेबसाइट

तलत महमूद (अंग्रेज़ी: Talat Mahmood; जन्म- 24 फरवरी, 1924, लखनऊ; मृत्यु- 9 मई, 1998, मुंबई) भारत के प्रसिद्ध पार्श्वगायक और फ़िल्म अभिनेता थे। इन्होंने ग़ज़ल गायक के रूप में बहुत ख्याति प्राप्त की थी। शुरुआत में उन्होंने 'तपन कुमार' के नाम से गाने गाये थे। बेहद सौम्य और विनम्र स्वभाव के तलत महमूद के लिए संगीत एक जुनून था, जबकि उनकी अदाकारी ने उन्हें बहुमुखी प्रतिभा के धनी कलाकार के रूप में पहचान दिलाई। मात्र सोलह वर्ष की उम्र में ही ग़ज़ल गायक के तौर पर अपने सफर की शुरुआत करने वाले तलत महमूद ने उस जमाने की जानी-मानी अभिनेत्रियों- सुरैया, नूतन और माला सिन्हा के साथ भी हिन्दी फ़िल्मों में अभिनय किया था। उनके योगदान के लिए सन 1992 में उन्हें 'पद्मभूषण' की उपाधि से सम्मानित किया गया।

जन्म तथा शिक्षा

तलत महमूद का जन्म लखनऊ (उत्तर प्रदेश) के एक खानदानी मुस्लिम परिवार में 24 फ़रवरी, 1924 को हुआ था। उनके पिता का नाम मंजूर महमूद था। तीन बहन और दो भाइयों के बाद तलत महमूद छठी संतान थे। घर में संगीत और कला का सुसंस्कृत परिवेश इन्हें मिला। इनकी बुआ को तलत की आवाज़ की 'लरजिश'[1] पसंद थी। भतीजे तलत महमूद बुआ से प्रोत्साहन पाकर गायन के प्रति आकर्षित होने लगे। इसी रुझान के चलते 'मोरिस संगीत विद्यालय', वर्तमान में 'भातखंडे संगीत विद्यालय', में उन्होंने दाखिला लिया।

प्रथम गायकी

शुरुआत में तलत महमूद ने लखनऊ आकाशवाणी से गाना शुरू किया। उन्होंने सोलह साल की उम्र में ही पहली बार आकाशवाणी के लिए अपना पहला गाना रिकॉर्ड करवाया था। इस गाने को लखनऊ शहर में काफ़ी प्रसिद्धि मिली। इसके बाद प्रसिद्ध संगीत कम्पनी एचएमवी की एक टीम लखनऊ आई और इस गाने के साथ-साथ तीन और गाने तलत से गवाए गए। इस सफलता से तलत की किस्मत चमक गई। यह वह दौर था, जब सुरीले गायन और आकर्षक व्यक्तित्व वाले युवा हीरो बनने के ख्वाब सँजोया करते थे।

मुंबई आगमन

तलत महमूद गायक और अभिनेता बनने की चाहत लिए 1944 में कोलकाता चले गए। उन्होंने शुरुआत में तपन कुमार के नाम से गाने गाए, जिनमें कई बंगाली गाने भी थे। वास्तव में कैमरे के सामने आते ही तलत महमूद तनाव में आ जाते थे, जबकि गायन में सहज महसूस करते थे। कोलकाता में बनी फ़िल्म 'स्वयंसिद्धा' (1945) में पहली बार उन्होंने पार्श्वगायन किया। अपनी सफलता से प्रेरित होकर बाद में तलत मुंबई आ गए और संगीतकार अनिल विश्वास से मिले।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. कंपन

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें
"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=तलत_महमूद&oldid=627742" से लिया गया