डेंगू  

एड़ीज मच्छर

एड़ीज मच्छर

एड़ीज मादा मच्छर साफ़ पानी में अण्डे देती है, अण्डे से एक कीड़ा निकलता है, जिसे लार्वा कहते हैं, लार्वा से प्यूपा बनता है एवं फिर मच्छर बन जाता है। लार्वा व प्यूपा अवस्था पानी में रहते हैं और मच्छर पानी के बाहर रहता हैं। अण्डे से मच्छर बनने में क़रीब एक सप्ताह का समय लगता हैं। मच्छर का जीवनकाल क़रीब तीन सप्ताह का होता है। एड़ीज मच्छर काले रंग का होता है, जिस पर सफ़ेद धब्बे बने होते हैं, इसे टाइगर मच्छर भी कहा जाता हैं। ख़ास बात यह है कि डेंगू फैलाने वाला एडीज मच्छर गंदे पानी की बजाय साफ़ पानी में पनपता है। ये मच्छर ऐसे स्वच्छ पानी में जहाँ कई दिनों से हलचल न हो, उस स्थान पर ब्रीड करते हैं। पानी के पुराने टैंकों में पानी की सतह पर बड़ी संख्या में लार्वा देखे जा सकते हैं। जल संकाय, मछली के खुले टैंक, साफ़ झील आदि, बरसात और बाढ़ में महामारी के बड़े स्रोत होते हैं तथा बरसात में गमलों, कूलरों, पानी के ड्रम, पुराने ट्यूब या टायर, फूटे मटके जानवरों के पीने की हौद आदि में एकत्रित हुए पानी में यह मच्छर ज़्यादा पाया जाता है।[5]

संक्रामक काल

जिस दिन डेंगू वायरस से संक्रमित कोई मच्छर किसी व्यक्ति को काटता है तो उसके लगभग 3-5 दिनों बाद ऐसे व्यक्ति में डेंगू बुख़ार के लक्षण प्रकट हो सकते हैं। यह संक्रामक काल 3-10 दिनों तक भी हो सकता है।

प्रकार

एक व्यक्ति अपने जीवनकाल में सिर्फ़ एक बार ही किसी ख़ास प्रकार के डेंगू से संक्रमित होता है। डेंगू बुख़ार तीन प्रकार के होते हैं तथा लक्षण इस बात पर निर्भर करेंगे कि डेंगू बुख़ार किस प्रकार है-

  • क्लासिकल (साधारण) डेंगू बुख़ार
  • डेंगू हॅमरेजिक बुख़ार (डीएचएफ)
  • डेंगू शॉक सिंड्रोम (डीएसएस)

क्लासिकल डेंगू साधारण प्रकार का डेंगू है, यह एक स्वयं ठीक होने वाली बीमारी है तथा इससे मृत्यु नहीं होती है अगर इसका सही उपचार नहीं हुआ तो यह बुख़ार (1) डेंगू हेमोरेजिक फीवर, (2) डेंगू शॉक सिंड्रोम में बदल जाता है, जिससे मरीज़ की जान भी जा सकती है। इसलिए यह पहचानना अत्यंत महत्त्वपूर्ण है कि बीमारी का स्तर का क्या है। जब यह बीमारी गंभीर हो जाता है, तो मरीज़ में विभिन्न जगहों से ख़ून बहने लगता है इसका इलाज, अस्पताल में तुरंत होना चाहिये।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. DEN-1, DEN-2, DEN-3, DEN-4
  2. Aedes aegypti
  3. डेंगू बुखार : एक संक्रामक रोग (बचाव) (हिन्दी) (ए.एस.पी) नारद समाचार। अभिगमन तिथि: 9 मार्च, 2011
  4. डेंगू या डेंगी (हिन्दी) (पी.एच.पी) निरोग। अभिगमन तिथि: 9 मार्च, 2011
  5. ये मच्छर जानलेवा है (हिन्दी) (पी.एच.पी) देशबन्धु। अभिगमन तिथि: 9 मार्च, 2011

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=डेंगू&oldid=617342" से लिया गया