जे. आर. डी. टाटा  

जे. आर. डी. टाटा
जहाँगीर रतनजी दादाभाई टाटा
पूरा नाम जहाँगीर रतनजी दादाभाई टाटा
अन्य नाम जे. आर. डी. टाटा
जन्म 29 जुलाई, 1904
जन्म भूमि पेरिस, फ़्राँस
मृत्यु 29 नवम्बर, 1993
मृत्यु स्थान जिनेवा, स्विट्ज़रलैण्ड
अभिभावक पिता- रतनजी दादाभाई टाटा, माता- सुजैन ब्रियरे
कर्म भूमि भारत
कर्म-क्षेत्र उद्योगपति
भाषा फ़्रांसिसी भाषा (फ़्रैंच)
शिक्षा इंजीनियरिंग
विद्यालय कैंब्रिज विश्वविद्यालय
पुरस्कार-उपाधि 'पद्म विभूषण' (1957), भारत रत्न' (1992), 'गुगेन‌हीम मेडल फॉर एवियेशन' (1988), 'लीजन ऑफ द ऑनर' (1954)
नागरिकता भारतीय
संबंधित लेख टाटा परिवार, जमशेद जी टाटा, रतन टाटा, टाटा मूलभूत अनुसंधान संस्थान
अन्य जानकारी जे. आर. डी. टाटा ने देश की पहली वाणिज्यिक विमान सेवा 'टाटा एयरलाइंस' शुरू की थी, जो आगे चलकर भारत की राष्ट्रीय विमानसेवा 'एयर इंडिया' बन गई। इस कारण जे. आर. डी. टाटा को 'भारत के नागरिक उड्डयन का पिता' भी कहा जाता है।

जहाँगीर रतनजी दादाभाई टाटा (अंग्रेज़ी: Jehangir Ratanji Dadabhoy Tata; जन्म: 29 जुलाई, 1904, पेरिस, फ़्राँस - मृत्यु: 29 नवम्बर, 1993, जिनेवा, स्विट्ज़रलैण्ड) भारत के प्रसिद्ध उद्योगपति थे। आधुनिक भारत की बुनियाद रखने वाली औद्योगिक हस्तियों में जे. आर. डी. टाटा का नाम सर्वोपरि है। इन्होंने ही देश की पहली वाणिज्यिक विमान सेवा 'टाटा एयरलाइंस' शुरू की थी, जो आगे चलकर भारत की राष्ट्रीय विमान सेवा 'एयर इंडिया' बन गई। इस कारण जे. आर. डी. टाटा को भारत के नागरिक उड्डयन का पिता भी कहा जाता है।

जीवन परिचय

कुशल विमान चालक जे. आर. डी. टाटा का जन्म 29 जुलाई, 1904 ई. में पेरिस में हुआ था। यह रतनजी दादाभाई टाटा व उनकी फ़्रांसीसी पत्नी सुजैन ब्रियरे की दूसरी संतान थे। उनके पिता भारत के अग्रणी उद्योगपति जमशेदजी टाटा के चचेरे भाई थे। जे. आर. डी. टाटा की माँ फ़्रांसीसी थीं, इसलिए उनके बचपन का ज़्यादातर वक़्त फ़्राँस में बीता, इसलिए फ़्रेंच उनकी पहली भाषा थी। उन्होंने कैथेडरल और जॉन कोनोन स्कूल मुंबई में अपनी पढ़ाई पूरी की। जे. आर. डी. ने अपनी इंजीनियरिंग की पढ़ाई 'कैंब्रिज विश्वविद्यालय' से की थी। मात्र 34 वर्ष की आयु में वे टाटा संस के चेयरमैन बने। दशकों तक उन्होंने विशालकाय टाटा समूह की कंपनियों का मार्गदर्शन किया। उन्होंने अपनी पैतृक कम्पनी के अध्यक्ष पद पर पहुँचने से पहले सबसे नीचे स्तर से काम सम्भालना सीखा। इस प्रकार उन्हें अपने उद्योग के विभिन्न समूहों को समझने का अवसर मिला। इसी जानकारी से वे उद्योग को विभिन्न दिशाओं में बढ़ाने में सफल हुए।

जे. आर. डी. टाटा उसूलों के बेहद पक्के व्यक्ति थे। उन्होंने व्यापार में सफलता के साथ-साथ उच्च नैतिक मानदंडों को भी क़ायम रखा। उनकी अध्यक्षता में टाटा समूह ने नई बुलंदियों को छुआ। उनके काल में टाटा समूह की कंपनियों की संख्या 15 से बढ़कर 100 से ज़्यादा हो गई। साथ ही टाटा समूह की परिसंपत्ति 62 करोड़ से बढ़कर 10 हज़ार करोड़ की हो गई।

प्रथम पायलट

जे. आर. डी. टाटा भारत के पहले लाइसेंस प्राप्त पायलट थे। जीवन के आरंभिक दिनों में वह एवियशन की दुनिया की अग्रणी शख़्सियत लुईस ब्लेरियात से बहुत प्रभावित थे। इसी वजह से उन्होंने इसे कैरियर के रूप में अपनाया। 10 फ़रवरी, 1929 को जे. आर. डी. टाटा को पायलट का लाइसेंस दिया गया था। यह पहला मौका था, जब भारत में किसी व्यक्ति को पायलट का लाइसेंस जारी किया गया। 1932 ई. में जे. आर. डी. टाटा ने भारत की पहली विमानन सेवा 'टाटा एयरलाइंस' की आधार शिला रखी। यही एयरलाइंस 1946 में 'एयर इंडिया' के रूप में भारत की राष्ट्रीय विमान सेवा बनी।[1]

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 जे. आर. डी. टाटा (हिन्दी) (एच.टी.एम.एल.)। । अभिगमन तिथि: 29 जुलाई, 2012।

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें
"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=जे._आर._डी._टाटा&oldid=634058" से लिया गया