जेसुइट पादरी  

जेसुइट पादरी अज्ञानियों में ईसाई धर्म का प्रचार करने के उद्देश्य से संगठित 'सोसाइटी ऑफ़ जीसस' के सदस्य थे। ये पहली बार भारत में गोवा की पुर्तग़ाली बस्ती में 1542 ई. में आये। बादशाह अकबर से मिलने के लिए जो पहले जेसुइट पादरी पहुँचे, वे साधु रिदांल्फ़ो अकविवा तथा फ़ादर एंथोनी मोंसेरात थे। जेसुइट पादरियों ने भारत में ईसाई धर्म का काफ़ी प्रचार-प्रसार किया था। इन्होंने भारत में कई शिक्षण संस्थाओं की स्थापना भी की थी।

अकबर से भेंट

रिदांल्फ़ो अकविवा तथा फ़ादर एंथोनी मोंसेरात 1580 ई. में फ़तेहपुर सीकरी में बादशाह अकबर से मिले। जेसुइट पादरियों का दूसरा दल 1590 ई. में बादशाह अकबर के दरबार में पहुँचा और तीसरा दल 1595 ई. में आया। बादशाह ने जेसुइट पादरियों की बात ध्यान से और सम्मान से सुनी और एक समय यह आशा होने लगी कि वे बादशाह को ईसाई धर्म में बपतिस्मा देने में सफल हो जाएँगे। उन्होंने भारत में व्यापार करने वाली पुर्तग़ाली कम्पनी को राजनीतिक तथा व्यापारिक सुविधाएँ दिलाने की भी कोशिश की। परन्तु उनकी सारी कोशिशें विफल रहीं और अकबर ने ईसाई धर्म में बपतिस्मा नहीं लिया।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

भट्टाचार्य, सच्चिदानन्द भारतीय इतिहास कोश, द्वितीय संस्करण-1989 (हिन्दी), भारत डिस्कवरी पुस्तकालय: उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान, 172।

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=जेसुइट_पादरी&oldid=227734" से लिया गया