जयमंगला  

जयमंगला के रचनाकाल के बारे में भी अनिश्चय की स्थिति है, लेकिन विभिन्न निष्कर्षों के आधार पर इसका रचनाकाल 600 ई. या इसके बाद माना गया [1]है।

  • उदयवीर शास्त्री इसे 600 ई. तक लिखा जा चुका मानते हैं [2]
  • गोपीनाथ कविराज के अनुसार इसके रचयिता बौद्ध थे। रचयिता का नाम शंकर (शंकराचार्य या शंकरार्य) है। ये गोविन्द आचार्य के शिष्य थे- ऐसा जयमंगला के अन्त में उपलब्ध वाक्य से ज्ञात होता है।
  • जयमंगला भी सांख्यकारिका की व्याख्या है।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 19वीं कारिका पर युक्तिदीपिका,पृष्ठ 371
  2. सां. द. इ. पृ. 453

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=जयमंगला&oldid=299351" से लिया गया