जमशेद जी टाटा  

विदेश यात्राएँ

अपनी युवावस्था में ही जमशेदजी ने चीन, सुदूर पूर्व देशों, यूरोप, मध्य पूर्व और उत्तरी अमेरिका तक की यात्रा की थी। उन्होंने अपनी इन यात्राओं का लाभ विदेशों में इस्पात कारखानों, कोयला खानों और अन्य किस्म के कारखानों का अध्ययन करने की दृष्टि से उठाया। जब वे फ़्राँस में थे तो उन्होंने रेशम के कीड़े पालने की विधि का अध्ययन किया। जब वे 1893 में जापान गये तो जापानियों को रेशम की खेती के बारे में प्रयोग करने के लिए आमंत्रित किया। जलवायु के ख्याल से उन्होंने मैसूर को चुना और रेशम उद्योग को फिर से जीवित किया।[1]

दृढ़ निश्चयी

वर्ष 1886 में जमशेदजी ने एक 'पेंशन फंड' प्रारंभ किया और 1885 में ही वे दुर्घटनाग्रस्त लोगों को मुआवजा देने लगे। उनकी 'इम्प्रेस मिल' ने यह दिखा दिया था कि उनकी निगाह सिर्फ़ मुनाफे पर नहीं थी, उनके साथ काम करने वाले लोग भी उनके लिए महत्त्वपूर्ण थे। 1886 में तो वे एक ऐसी मिल ख़रीदने का इरादा करने लगे, जो उस क्षेत्र के कई महारथियों के लिए हानिप्रद सिद्ध हुई थी। इस समय तक जमशेदजी 47 वर्ष के हो चुके थे। उन्होंने एक बेकार मिल को चलाने की चुनौती स्वीकार कर ली। 'राष्ट्रीय स्वदेशी आंदोलन' की शुरुआत का संकेत देने के लिए मिल का नाम 'स्वदेशी मिल्स' रखा गया था। भारतीय शेयर होल्डरों से इसे भारी समर्थन मिला। उन्होंने जमशेदजी के काम में खुशी-खुशी पूँजी लगायी।

मज़दूरों के चिंतक

एक उद्योगपति के रूप में जमशेदजी की प्रतिष्ठा बढ़ती जा रही थी। वे अपने उद्योग को जीवित रखने के संघर्ष में काफ़ी व्यस्त रहते थे और स्वास्थ्य की देखभाल के लिए समय नहीं निकाल पाते थे, फिर भी श्रमिकों के स्वास्थ्य के बारे में सोचने के लिए उनके पास काफ़ी समय था। गंदा पानी अक्सर बीमारी की जड़ होता है। इसलिए उन्होंने जल के शुद्धीकरण के लिए एक प्लांट भी लगवाया। अनाज की एक दुकान मज़दूरों के लिए खोली गई। इसके बाद उनके लिए एक अस्पताल भी खुल गया। वस्त्र उद्योग में उनके दो उद्यमों को कामयाबी मिल चुकी थी। लेकिन मुनाफे के लिए और ज़्यादा मिलें लगाने के बजाय उन्होंने एक अलग रास्ता चुना। वे भारत को बड़े पैमाने पर इस्पात और जलविद्युत देना चाहते थे, जबकि इन उद्यमों में अच्छा ख़ासा जोखिम था। ऊँचे दर्जे के प्रबंधन कुशलताओं की ज़रूरत थी और मुनाफे की गति भी दुखदायी रूप से बहुत ही कम थी।[1]

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 1.2 1.3 1.4 राष्ट्र निर्माण के प्रेणेताओं में अग्रणी थे- जमशेदजी टाटा (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 2 मार्च, 2013।
  2. ताजमहल होटल के निर्माण की रोचक कथा (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 2 मार्च, 2013।
  3. 3.0 3.1 3.2 जब स्वामी विवेकानन्द जमशेदजी टाटा की प्रेरणा बने (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 2 मार्च, 2013।

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=जमशेद_जी_टाटा&oldid=628602" से लिया गया