चन्द्रावती नगरी  

चन्द्रावती नगरी राजस्थान के प्रसिद्ध दर्शनीय स्थल माउण्ट आबू से 6 किलोमीटर की दूरी पर दक्षिण में है। ध्वस्त हो चुकी यह नगरी अहमदाबाद मार्ग पर परमार शासकों की राजधानी होने के कारण 11वीं-12वीं सदी में बहुत समृद्ध थी। विद्धानों के अनुसार चन्द्रावती नगरी लंका के समान वैभवशाली थी। चन्द्रावती के आस-पास के खण्डहरों को देखकर डॉ. भण्डारकर ने यहाँ कम से कम 360 जैन मंदिरों के अस्तित्व की सम्भावना व्यक्त की है।

इतिहास

संवत 1503 में सोमधर्म रचित 'उपदेश सप्तसति' ग्रंथ में चन्द्रावती के 444 जैन मंदिर तथा 999 शेष मंदिरों का उल्लेख है। परमार शासकों की राजधानी में यशोधवल एवं धारावर्ष प्रतापी राजा हुए हैं, जिनकी कीर्ति दूर-दूर तक फैली हुई थी। 1303 ई. तक यहाँ परमार शासकों का शासन रहा था। 1311 ई. में राव लूमा ने इस पर अधिकार कर परमार शासन परम्परा को खत्म कर दिया। दिल्ली-गुजरात के मुख्य मार्ग पर स्थित होने के कारण यह समृद्धशाली नगरी मुस्लिम आक्रांताओं द्वारा अनेकों बार लूटी गई। गुजरात के सुल्तान बहादुरशाह (1405-1442ई.) ने चित्तौड़ की विजय से लौटते समय इस नगरी को आँखों से देखकर इसका चित्रण अपनी पुस्तक 'ट्रेवल्स इन वेस्टर्न इण्डिया' में किया है।

टॉड का वर्णन

टॉड के अनुसार यहाँ विभिन्न आकार-प्रकार वाली बीस इमारतें थीं। यहाँ पर मिली 138 मूर्तियों में 'त्रयम्बक' (तीन मुँह वाली आकृति) घुटने पर स्त्री बैठी हुई, बीस भुजाओं वाले शिव, जिनके बाईं ओर एक महिष है और दाहिना पैर उठाकर गरुड़ जैसी आकृति पर रखा हुआ है। एक महाकाल की बीस भुजाओं की प्रतिमा भी मिली है। टॉड ने मंदिर के भीतरी भाग और मध्य के गुम्बद की कलाकारी को बारीक एवं उच्च कोटि का बताया है।

और पढ़ें
"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=चन्द्रावती_नगरी&oldid=290086" से लिया गया