Notice: Undefined offset: 0 in /home/bharat/public_html/gitClones/live-development/bootstrapm/Bootstrapmskin.skin.php on line 41
गिरिव्रज (केकय की राजधानी) - भारतकोश, ज्ञान का हिन्दी महासागर

गिरिव्रज (केकय की राजधानी)  

Disamb2.jpg गिरिव्रज एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- गिरिव्रज (बहुविकल्पी)

गिरिव्रज रामायण काल में केकय देश की राजधानी थी। 'गिरिव्रज' का शाब्दिक अर्थ है- "पहाड़ियों का समूह"।[1]

  • इसे राजगृह भी कहा जाता था-
‘उभयौ भरतशत्रुघ्नौ केकयेषु परंतपौ, पुरे राजगृहे रम्ये मातामहनिवेशने’[2]
‘गिरिव्रजं पुरवरं शीघ्रमासेदुरंजसा’[3]
  • गिरिव्रज का अभिज्ञान जनरल कनिंघम ने झेलम नदी के तट पर बसे हुए 'गिरजाक' अथवा 'जलालपुर' नामक क़स्बा[4] से किया है। जलालपुर का प्रचीन नाम 'नगरहार' भी था।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |पृष्ठ संख्या: 288 |
  2. वाल्मीकि रामायण, अयोध्या काण्ड 67, 7
  3. वाल्मीकि रामायण, अयोध्या काण्ड 68, 22।
  4. जो अब पश्चिमी पाकिस्तान में है

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=गिरिव्रज_(केकय_की_राजधानी)&oldid=500672" से लिया गया