गंगैकोंडचोलपुरम  

बृहदेश्वर मन्दिर, गंगैकोंडचोलपुरम

गंगैकोंडचोलपुरम तमिलनाडु के त्रिचिनापल्ली ज़िले में स्थित है।

  • गंगैकोंडचोलपुरम चोल वंश के प्रतापी राजा राजेन्द्र चोल (1014-44ई.) की राजधानी थी।
  • उसकी सेनाएँ कलिंग को पार करके ओड्र उड़ीसा दक्षिण कौशल बंगाल और मगध होती हुई गंगा तक पहुँची थीं।
  • इस विजय के उपलक्ष्य में उसने 'गंगैकोण्ड' की उपाधि धारण की और गंगैकोण्डचोलपुरम 'गंगा विजयी चोल का नगर' नामक नगर बसाया।
  • गंगैकोंडचोलपुरम नगर चोल राजाओं के शासन काल में बहुत उन्नत और समृद्ध था।
  • गंगैकोंडचोलपुरम पर राजेन्द्र चोल ने 1025 ई. में मन्दिर बनवाया। मन्दिर का शिखर भूमि से 150 फुट ऊँचा है।
  • मन्दिर की शैली तंजौर मन्दिर की शैली के ही समान है। अंतर मुख्यतः अधिक विस्तृत अलंकरण का है।
  • इसका मण्डप कम ऊँचा है, किन्तु इसमें 150 स्तम्भ हैं। इस मन्दिर में मार्दव, सौन्दर्य और विलास अधिक है।
  • कहा जाता है, कि राजेन्द्र चोल ने विभिन्न पराजित राज्यों के शासकों को गंगा से एक-एक कलश स्वयं ढोते हुये लाकर नये नगर में निर्मित जलाशयों में उड़ेलने का आदेश दिया। इस तरह जो जल धारा बनी उसे 'राजेन्द्र चोल का जलीय विजय- स्तम्भ' कहा गया।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=गंगैकोंडचोलपुरम&oldid=289379" से लिया गया