खैरागढ़  

खैरागढ़ राजनांदगाँव ज़िला, छत्तीसगढ़ की नगर पालिका है। इसकी विशेषताएं प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र और स्कूल हैं। यहाँ के 'दंतेश्वरी माई' और 'विरेश्वर महादेव मंदिर' जैसे मंदिर देखने योग्य हैं।

  • खैरागढ़ ब्रिटिश शासन के दौरान एक जागीरदार राज्य था। यहाँ से 8 कि.मी. दूर स्थित पंददाह का इतिहास में एक महत्वपूर्ण स्थान है।
  • यहाँ का 'इंदिरा प्रदर्शन कला और संगीत विश्वविद्यालय'[1] भारत तथा एशिया में एक मात्र संगीत विश्वविद्यालय के रूप में प्रसिद्ध है। यह राजनांदगाँव की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत को दर्शाता है। इस स्थान का शांत और निर्मल वातावरण शैक्षिक और संगीत की ललक को प्रेरित करता है।[2]
  • इस क्षेत्र की उपजाऊ भूमि धान और कपास की खैती के लिए प्रसिद्ध है।
  • यहाँ मध्य अप्रैल से मध्य जून तक बहुत गर्मी होती है, जबकि बाकी समय में मौसम मधुर और सुहावना बना रहता है।
  • खैरागढ़ के निकटतम रेलवे स्टेशन राजनांदगाँव, डोंगरगढ़ और दुर्ग हैं। ये क्रमानुसार वे 40, 42 और 55 कि.मी. की दूरी पर स्थित हैं।
  • डोंगरगढ़ और दुर्ग से देश के सभी प्रमुख शहरों के लिए एक्सप्रेस गाड़ियों की सेवा उपलब्ध है।
  • नागपुर और रायपुर सबसे नजदीकी हवाई अड़्डे हैं, जो कि 92 और 225 कि.मी. की दूरी पर स्थित हैं।
  • खैरागढ़ में सड़क और रेल मार्ग पूरी तरह विकसित है। यह रायपुर से 90 कि.मी. और राजनांदगाँव. से 40 कि.मी. दूर है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. इंदिरा संगीत और कला विश्वविद्यालय
  2. खैरागढ़, राजनांदगाँव (हिन्दी) नेटिव प्लेनेट। अभिगमन तिथि: 01 फ़रवरी, 2015।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=खैरागढ़&oldid=518679" से लिया गया