ख़्वाजा जहान  

ख़्वाजा जहान ने जौनपुर में शर्की वंश की स्थापना की थी। वह फ़िरोज़शाह तुग़लक़ के पुत्र महमूद तुग़लक के दरबार में वज़ीर के पद पर नियुक्त था।

  • 1394 ई. में महमूद ने अपने वज़ीर 'ख़्वाजा जहान' को 'मलिक-उस-शर्क' (पूर्व का स्वामी) की उपाधि प्रदान की।
  • ख़्वाजा जहान ने दिल्ली पर हुए तैमूर के आक्रमण के कारण व्याप्त अस्थिरता का लाभ उठा कर स्वतन्त्र शर्की वंश की नींव डाली।
  • इसने कभी सुल्तान की उपाधि धारण नहीं की।
  • 1399 ई. में ख़्वाजा जहान की मृत्यु हो गई थी।
  • उसके राज्य की सीमाएँ 'कोल', 'सम्भल' तथा 'रापरी' तक फैली हुई थीं।
  • उसने 'तिरहुत' तथा 'दोआब' के साथ-साथ बिहार पर भी प्रभुत्व स्थापित किया।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=ख़्वाजा_जहान&oldid=612034" से लिया गया