कुष्ठ  

कुष्ठ अथवा 'कोढ़' (अंग्रेज़ी: Leprosy) एक रोग है, जिसकी गणना संसार के प्राचीनतम ज्ञात रोगों में की जाती है। इसका उल्लेख चरक और सुश्रुत ने अपने ग्रंथों में किया है। उत्तर साइबेरिया को छोड़कर संसार का कोई भाग ऐसा नहीं था, जहाँ यह रोग न रहा हो। किंतु अब ठंडे जलवायु वाले प्राय: सभी देशों से इस रोग का उन्मूलन किया जा चुका है। यह अब अधिकाशंत: कर्क रेखा[1] से लगे गर्म देशों के उत्तरी और दक्षिणी पट्टी में ही सीमित है और उत्तरी भाग की अपेक्षा दक्षिणी भाग में अधिक है।

प्रभावित क्षेत्र

भारत, अफ़्रीका और दक्षिणी अमरीका में यह रोग अधिक व्यापक है। अभी हाल के अनुमानित आँकड़ों के अनुसार संसार में लगभग डेढ़ करोड़ लोग इस रोग से पीड़ित हैं। इनमें भारतीयों की संख्या लगभग तीस लाख है। भारत में यह रोग उत्तर की अपेक्षा दक्षिण में अधिक है। उड़ीसा, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु और दक्षिण महाराष्ट्र में यह क्षेत्रीय रोग सरीखा है। उत्तर भारत में यह हिमालय की तराई में ही अधिक देखने में आता है।[2]

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. Tropic of Cancer
  2. 2.0 2.1 2.2 2.3 कुष्ठ (हिन्दी) भारतखोज। अभिगमन तिथि: 01 अगस्त, 2015।
  3. बैक्टीरिया
  4. Nerve leprosy
  5. Lapromatus leprosy

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=कुष्ठ&oldid=609620" से लिया गया