किरातकूट  

किरातकूट अथवा किराडू पश्चिमी राजस्थान के जोधपुर ज़िले में उत्तर रेलवे के बाड़मेर-मुनावा रेलमार्ग पर खंडीन रेलवे स्टेशन से 3 मील (लगभग 4.8 कि.मी.) की दूरी पर स्थित एक प्राचीन उजाड़ बस्ती हैं, जिसे आज 'किराडू' कहा जाता है। पहले इसका मूल नाम 'किरातकूट' या 'किरातकूप' हुआ करता था।[1]

  • इस बस्ती का प्राचीन इतिहास आज अनुपलब्ध है, किंतु वहाँ से तेरहवीं शती ई. का एक अभिलेख प्राप्त हुआ है, जिससे ज्ञात होता है कि यह प्रदेश सोलंकी नरेश कुमारपाल के सामंत अल्हणदेव चौहान के अधीन था।
  • यहाँ एक वर्ग मील के क्षेत्र में 24 मंदिरों के अवशेष बिखरे हुए हैं, जिनमें केवल पाँच इस अवस्था में शेष हैं कि उनके आधार पर तत्कालीन कला की उत्कृष्टता का अनुमान किया जा सके। इनमें चार तो शिव मंदिर और एक विष्णु मंदिर है।
  • किरातकूट के मंदिरों में 'सोमेश्वर मंदिर' विशेष रूप से उल्लेखनीय है। इसमें आठ स्तंभों पर बना अष्टाभुजाकार मंडप है। गर्भगृह की दीवारों पर ब्रह्मा, विष्णु, सूर्य आदि की मूर्तियाँ उत्कीर्ण है।
  • बाहर की दीवारों पर 'कृष्णलीला', 'रामायण' के अनेक प्रसंग और समुद्र मंथन के दृश्य अंकित हैं।
  • विष्णु मंदिर में विष्णु की त्रिमुख मूर्ति है, जिसका एक ओर का मुख 'वराह' और दूसरी ओर का 'नृसिंह 'का है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. किरातकूट (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 18 फ़रवरी, 2014।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=किरातकूट&oldid=609503" से लिया गया