विशालाक्षी शक्तिपीठ  

(काशी विशालाक्षी मंदिर से पुनर्निर्देशित)


विशालाक्षी शक्तिपीठ
'काशी विशालाक्षी मंदिर' में माता की प्रतिमा
विवरण यह शक्तिपीठ हिन्दू धर्म में मान्य 51 शक्तिपीठों में से एक है। माना जाता है कि इसी स्थान पर माता सती की 'आँख' या 'दाहिने कान के मणि' गिरे थे।
राज्य उत्तर प्रदेश
ज़िला बनारस ज़िला
प्रसिद्धि हिन्दू धार्मिक स्थल
संबंधित लेख शक्तिपीठ, सती
पौराणिक मान्यता 'तंत्रचूड़ामणि' के अनुसार काशी में सती के दाहिने कान की मणि का निपात हुआ था।
देवी-देवता शक्ति 'विशालाक्षी' तथा भैरव 'काल भैरव'।
अन्य जानकारी स्कंद पुराण [1] के अनुसार विशालाक्षी नौ गौरियों में पंचम हैं तथा भगवान श्रीकाशी विश्वनाथ उनके मंदिर के समीप ही विश्राम करते हैं।

विशालाक्षी शक्तिपीठ अथवा काशी विशालाक्षी मंदिर हिन्दू धर्म के प्रसिद्ध 51 शक्तिपीठों में से एक है। यह मन्दिर उत्तर प्रदेश के प्राचीन नगर बनारस ('काशी' या 'वाराणसी') में काशी विश्‍वनाथ मंदिर से कुछ ही दूरी पर मीरघाट पर स्थित है। भारत की सांस्कृतिक राजधानी वाराणसी पुरातत्त्व, पौराणिक कथाओं, भूगोल, कला और इतिहास संयोजन का एक महान् केंद्र है। यह दक्षिण-पूर्वी उत्तर प्रदेश राज्य, उत्तरी-मध्य भारत में गंगा नदी के बाएं तट पर स्थित है और हिन्दुओं की सात पवित्र पुरियों में से एक है। इस पवित्र स्थल को 'बनारस' और 'काशी' नगरी के नाम से भी जानते हैं। इसे मन्दिरों एवं घाटों का नगर भी कहा जाता है। ऐसा ही एक मंदिर है 'काशी विशालाक्षी मंदिर', जिसका वर्णन 'देवीपुराण' में किया गया है।

मान्यता

हिन्दुओं की मान्यता के अनुसार यहाँ माता सती की आँख या 'दाहिने कान के मणि' गिरे थे। यहाँ की शक्ति 'विशालाक्षी' माता तथा भैरव 'काल भैरव' हैं। पुराणों के अनुसार जहाँ-जहाँ सती के अंग के टुकड़े, धारण किए वस्त्र या आभूषण गिरे, वहाँ-वहाँ शक्तिपीठ अस्तित्व में आये। ये अत्यंत पावन तीर्थस्थान कहलाते हैं। ये तीर्थ पूरे भारतीय उपमहाद्वीप में फैले हुए हैं। 'देवीपुराण' में 51 शक्तिपीठों का वर्णन है।

पौराणिक कथा

  • 'काशी विश्‍वनाथ मंदिर' से कुछ ही दूरी पर स्थित विशालाक्षी मंदिर 51 शक्तिपीठों में से एक है। यहाँ देवी सती की आँख या दाहिने कान के मणि गिरे थे। इसलिए इस जगह को 'मणिकर्णिका घाट' भी कहते हैं। वैसे कहा यह भी जाता है कि जब भगवान शिव वियोगी होकर सती के मृत शरीर को अपने कंधे पर रखकर इधर-उधर घूम रहे थे, तब भगवती का कर्ण कुण्डल इसी स्थान पर गिरा था।
  • एक अन्य आख्यान के अनुसार माँ अन्नपूर्णा, जिनके आशीर्वाद से संसार के समस्त जीव भोजन प्राप्त करते हैं, वे ही 'विशालाक्षी' हैं। 'स्कंद पुराण' की कथा के अनुसार जब ऋषि व्यास को वाराणसी में कोई भी भोजन अर्पण नहीं कर रहा था, तब विशालाक्षी एक गृहिणी की भूमिका में प्रकट हुईं और ऋषि व्यास को भोजन दिया। विशालाक्षी की भूमिका बिलकुल अन्नपूर्णा के समान थी।
तंत्रसागर के अनुसार

तंत्रसागर के अनुसार भगवती गौरवर्णा हैं। उनके दिव्य विग्रह से तप्त स्वर्ण सदृश्य कांति प्रवाहित होती है। वह अत्यंत रूपवती हैं तथा सदैव षोडशवर्षीया दिखती हैं। वह मुण्डमाल धारण करती हैं, रक्तवस्त्र पहनती हैं। उनके दो हाथ हैं जिनमें क्रमशः खड्ग और खप्पर रहता है।

तंत्रचूड़ामणि के अनुसार

तंत्रचूड़ामणि के अनुसार काशी (वाराणसी) में सती के दाहिने कान की मणि का निपात हुआ था। यह स्थान मीरघाट मुहल्ले के मकान नंबर डी/3-85 में स्थित है, जहाँ विशालाक्षी गौरी का प्रसिद्ध मंदिर तथा विशालाक्षेश्वर महादेव का शिवलिंग भी है।[2] यहाँ भगवान् काशी विश्वनाथ विश्राम करते हैं।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. काशी खण्ड
  2. देवी पुराण (महाभागवत), पृष्ठ 459
  3. श्रीमददेवी भागवत महापुराण-सप्तम स्कंध-अध्याय 30
  4. श्रीमद्देवी भागवत के अनुसार मुख का तथा तंत्रचूड़ामणि के अनुसार यहाँ दाहिनी कर्णमणि का निपात हुआ था
  5. देवी भागवत 7/38/27
  6. तदैव 7/30/55
  7. काशी खण्ड
  8. स्कंद पुराण, काशीखण्ड, 79/77

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=विशालाक्षी_शक्तिपीठ&oldid=604166" से लिया गया