कान्यकुब्ज  

Disamb2.jpg कान्यकुब्ज एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- कान्यकुब्ज (बहुविकल्पी)
गौरी शंकर मंदिर, कन्नौज

कान्यकुब्ज उत्तर प्रदेश के प्रमुख नगरों में से एक कन्नौज का प्राचीन नाम है। यह उत्तर प्रदेश राज्य का प्रमुख मुख्यालय एवं नगरपालिका है। कान्यकुब्ज कभी हिन्दू साम्राज्य की राजधानी के रूप में प्रतिष्ठित रहा था। माना जाता है कि कान्यकुब्ज ब्राह्मण मूल रूप से इसी स्थान के रहने वाले हैं। सम्राट हर्षवर्धन के शासन काल में कान्यकुब्ज अपने चरमोत्कर्ष पर पहुँच गया था। वर्तमान कन्नौज शहर अपने 'इत्र' व्यवसाय के अलावा तंबाकू के व्यापार के लिए भी मशहूर है। यहाँ मुख्य रूप से कन्नौजी बोली, कनउजी भाषा के रूप में इस्तेमाल की जाती है।

साहित्यिक उल्लेख

साहित्य में कान्यकुब्ज के निम्न नाम उपलब्ध हैं-

  1. 'कन्यापुर' (वराहपुराण)
  2. 'महोदय'
  3. 'कुशिक'
  4. 'कोश'
  5. 'गाधिपुर'
  6. 'कुसुमपुर' (युवानच्वांग)
  7. 'कण्णकुज्ज' (पाली)

कान्यकुब्ज की गणना भारत के प्राचीनतम ख्याति प्राप्त नगरों में की जाती है। वाल्मीकि रामायण के अनुसार इस नगर का नामकरण कुशनाभ की कुब्जा कन्याओं के नाम पर हुआ था। पुराणों में कथा है कि पुरुरवा के कनिष्ठ पुत्र अमावसु ने कान्यकुब्ज राज्य की स्थापना की थी। कुशनाभ इन्हीं का वंशज था। कान्यकुब्ज का पहला नाम 'महोदय' बताया गया है। महोदय का उल्लेख विष्णुधर्मोत्तर पुराण में भी है-

'पंचालाख्योस्ति विषयो मध्यदेशेमहोदयपुरं तत्र'[1]

महाभारत में कान्यकुब्ज का विश्वामित्र के पिता राजा गाधि की राजधानी के रूप में उल्लेख है। उस समय कान्यकुब्ज की स्थिति दक्षिण पंचाल में रही होगी, किन्तु उसका अधिक महत्व नहीं था, क्योंकि दक्षिण-पंचाल की राजधानी कांपिल्य में थी।

'कन्यातीर्थेऽश्वतीर्थे च गवांतीर्थे च भारत, कालकोट्यां वृषपृस्थे गिरावुष्य च पांडवा:।'[2][3]

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. विष्णुधर्मोत्तर पुराण 1,20,2-3.
  2. वन पर्व महाभारत 95, 3
  3. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 131-132 |

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=कान्यकुब्ज&oldid=629150" से लिया गया