कवि प्रदीप  

कवि प्रदीप
प्रदीप
पूरा नाम रामचंद्र नारायणजी द्विवेदी
प्रसिद्ध नाम कवि प्रदीप
जन्म 6 फ़रवरी 1915
जन्म भूमि उज्जैन, मध्य प्रदेश
मृत्यु 11 दिसंबर 1998
मृत्यु स्थान मुम्बई, महाराष्ट्र
अभिभावक नारायण भट्ट
पति/पत्नी श्रीमती सुभद्रा बेन
संतान पुत्री- सरगम और मितुल
कर्म भूमि मुम्बई (भारत)
कर्म-क्षेत्र कवि, गीतकार, गायक
मुख्य रचनाएँ ऐ मेरे वतन के लोगो, आओ बच्चों तुम्हें दिखाएँ, दे दी हमें आज़ादी, हम लाये हैं तूफ़ान से, मैं तो आरती उतारूँ, पिंजरे के पंछी रे, तेरे द्वार खड़ा भगवान, दूर हटो ऐ दुनिया वालों आदि
मुख्य फ़िल्में जय संतोषी माँ, जाग्रति, बंधन, बंधन, किस्मत, नास्तिक, हरि दर्शन, कभी धूप कभी छाँव, पैग़ाम, स्कूल मास्टर, वामन अवतार आदि।
विषय देशप्रेम, भक्ति
शिक्षा स्नातक
विद्यालय 'शिवाजी राव हाईस्कूल', इंदौर; 'दारागंज हाईस्कूल', इलाहाबाद; 'लखनऊ विश्वविद्यालय'
पुरस्कार-उपाधि दादा साहब फाल्के पुरस्कार (1998), संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार (1961)
नागरिकता भारतीय
अन्य जानकारी कवि प्रदीप गाँधी विचारधारा के कवि थे। उन्होंने जीवन मूल्यों की कीमत पर धन-दौलत को कभी महत्त्व नहीं दिया। उनका मानना था कि 'यदि आपस में हम लोगों में ईर्ष्या-द्वेष न होता तो हम ग़ुलाम न होते'।

कवि प्रदीप (अंग्रेज़ी: Kavi Pradeep, जन्म: 6 फ़रवरी, 1915, उज्जैन, मध्य प्रदेश; मृत्यु: 11 दिसंबर, 1998, मुम्बई, महाराष्ट्र) का मूल नाम 'रामचंद्र नारायणजी द्विवेदी' था। प्रदीप हिंदी साहित्य जगत् और हिंदी फ़िल्म जगत् के एक अति सुदृढ़ रचनाकार रहे। कवि प्रदीप 'ऐ मेरे वतन के लोगों' सरीखे देशभक्ति गीतों के लिए जाने जाते हैं। उन्होंने 1962 के 'भारत-चीन युद्ध' के दौरान शहीद हुए सैनिकों की श्रद्धांजलि में ये गीत लिखा था। 'भारत रत्न' से सम्मानित स्वर कोकिला लता मंगेशकर द्वारा गाए इस गीत का तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की उपस्थिति में 26 जनवरी 1963 को दिल्ली के रामलीला मैदान से सीधा प्रसारण किया गया था। यूँ तो कवि प्रदीप ने प्रेम के हर रूप और हर रस को शब्दों में उतारा, लेकिन वीर रस और देश भक्ति के उनके गीतों की बात ही कुछ अनोखी थी।

विषय सूची

जन्म

देश प्रेम और देश-भक्ति से ओत-प्रोत भावनाओं को सुन्दर शब्दों में पिरोकर जन-जन तक पहुँचाने वाले कवि प्रदीप का जन्म 6 फ़रवरी, 1915 में मध्य प्रदेश में उज्जैन के बड़नगर नामक क़स्बे में हुआ था। प्रदीप जी का असल नाम 'रामचंद्र नारायण द्विवेदी' था। इनके पिता का नाम नारायण भट्ट था। प्रदीप जी उदीच्य ब्राह्मण थे।
कवि प्रदीप अपने परिवार (पत्नी- सुभद्रा बेन, पुत्री- सरगम और मितुल) के साथ

शिक्षा

कवि प्रदीप की शुरुआती शिक्षा इंदौर के 'शिवाजी राव हाईस्कूल' में हुई, जहाँ वे सातवीं कक्षा तक पढ़े। इसके बाद की शिक्षा इलाहाबाद के दारागंज हाईस्कूल में संपन्न हुई। इसके बाद इण्टरमीडिएट की परीक्षा उत्तीर्ण की। दारागंज उन दिनों साहित्य का गढ़ हुआ करता था। वर्ष 1933 से 1935 तक का इलाहाबाद का काल प्रदीप जी के लिए साहित्यिक दृष्टीकोंण से बहुत अच्छा रहा। उन्होंने लखनऊ विश्वविद्यालय से स्नातक की शिक्षा प्राप्त की एवं अध्यापक प्रशिक्षण पाठ्‌यक्रम में प्रवेश लिया। विद्यार्थी जीवन में ही हिन्दी काव्य लेखन एवं हिन्दी काव्य वाचन में उनकी गहरी रुचि थी।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 1.2 कवि प्रदीप, आँखें नम कर देने वाले 10 बेहतरीन गीत (हिन्दी) सहदेव। अभिगमन तिथि: 07 फरवरी, 2015।
  2. देशभक्ति गीतों के कवि: प्रदीप (हिन्दी) सहारा समय। अभिगमन तिथि: 08 फरवरी, 2015।
  3. 3.0 3.1 3.2 आभार- अहा! ज़िंदगी, फ़रवरी 2015
  4. एक-दो गानों को छोड़कर
  5. Odeon (a company of the EMI group)
  6. लखनऊ से गहरा रिश्ता था कवि प्रदीप का (हिन्दी) आईनेक्स्टलाइव। अभिगमन तिथि: 08 फ़रवरी, 2015।
  7. कई सदियों तक गूंजेंगे प्रदीप के गीत (हिन्दी) (पी.एच.पी) हिन्दी मीडिया इन। अभिगमन तिथि: 30 सितम्बर, 2012।
  8. कवि प्रदीप: सिनेमा से आम जन तक पहुँचे (हिन्दी) (एच.टी.एम.एल) बीबीसी हिन्दी। अभिगमन तिथि: 30 सितम्बर, 2012।
  9. आम आदमी की रगों में दौड़ता एक कवि प्रदीप (हिन्दी) आवाज। अभिगमन तिथि: 07 फरवरी, 2015।
  10. 10.0 10.1 राष्ट्रकवि प्रदीप-आवाज हिंदुस्तान की (हिन्दी) ठलुआ क्लब। अभिगमन तिथि: 08 फरवरी, 2015।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=कवि_प्रदीप&oldid=619266" से लिया गया