कनक  

शब्द संदर्भ
हिन्दी स्वर्ण, सोना, 'धतुरा' नामक विषैला फल या उसका वृक्ष, गेहूँ, अनाज, पलाश, ढाक, टेसू, छप्पय नामक छंद का एक प्रकार या भेद, खजूर, नागकेसर।
-व्याकरण    पुल्लिंग, धातु
-उदाहरण  

कनक कनक ते सौगुनी, मादकता अधिकाय।
वा खाये बौराय नर, वा पाये बौराय।।

-रहीम
-विशेष    उक्त दोहे में 'कनक' शब्द का दो बार प्रयोग क्रमशः उक्त दो अर्थों में है।
-विलोम   
-पर्यायवाची    चंपा, कंचना, चंपक, नागचंपा, सोनचंपा, सुरभि, शीतल, वन मलिका, पलाश, किंशुक, लाक्षा, तरु, पर्ण, याज्ञिक।
संस्कृत कन् + वुन्, कणिक
अन्य ग्रंथ
संबंधित शब्द
संबंधित लेख

अन्य शब्दों के अर्थ के लिए देखें शब्द संदर्भ कोश

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=कनक&oldid=337796" से लिया गया