कद्दू  

कद्दू

कद्दू भारत की एक लोकप्रिय सब्ज़ी है जो देश के लगभग सभी भागों में उगायी जाती है। कद्दू को 'काशीफल' भी कहा जाता है। कद्दू का अंग्रेज़ी नाम पम्पकिन, राउन्ड गॉर्ड है और कद्दू का वानस्पतिक नाम कुकरबिटा मोस्चाटा है। कद्दू का फल आकार में बड़ा होता है और यह 6 महीने तक ख़राब नहीं होता है। अत: 6 महीनों तक इसका उपयोग सब्जी या अन्य रूपों में कर सकते हैं। कद्दू की बेल (लता) होती है। इसका फूल पीला और फल पहले हरा और पकने के बाद हल्का लाल पीला हो जाता है।[1]

उत्पत्ति

ऐसा माना जाता है कि कद्दू की उत्पत्ति उत्तरी अमेरिका में हुई। यह अंटार्कटिका के अलावा सभी महाद्वीपों में पाया जाता है। अमेरिका में 2000 ई. पू. इसका उपयोग सब्जी के रूप में किया जाता था। भारत में भी इसकी खेती आदि काल से होती आ रही है।[2] भारत में इसकी खेती की जाती है परन्तु रूस में इसकी खेती सबसे अधिक होती है।

फ़सलों की बुयाई का समय

सभी कद्दू वर्गीय फ़सलों की फ़रवरी से मार्च एवं जून से जुलाई का समय उपयुक्त है। इनकी बुयाई 1 मीटर चौड़ी नाली बना कर नाली के दोनों किनारों पर करी जाती है।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 1.2 कद्दू (हिन्दी) जनकल्याण। अभिगमन तिथि: 25 सितम्बर, 2010
  2. कद्दू (हिन्दी) उत्तरा कृषि प्रभा। अभिगमन तिथि: 25 सितम्बर, 2010
  3. 3.0 3.1 बड़े काम की चीज़ है कद्दू (हिन्दी) जागरण। अभिगमन तिथि: 25 सितम्बर, 2010
और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=कद्दू&oldid=278267" से लिया गया