एलुरू  

एलुरू (स्थिति 16रू 43फ़ उ.अ., 81रू 7फ़ पू.दे.) आंध्र प्रदेश के पश्चिमी गोदावरी जिले में स्थित एक बड़ा नगर है। जिले के सभी मुख्य कार्यालय यहीं पर हैं। नगर एतिहासिक महत्व का है। 1470 ई. में मुसलमानों ने यहाँ अपना अधिकार जमाया; किंतु 1515 ई. में विजयनगर के राजा कृष्णदेव ने इसपर पुन: अधिकार कर लिया। अंग्रेजों ने कुछ समय के लिए यहाँ छावनी भी बनाई थी।

एलुरू मैदानी क्षेत्र में स्थित है तथा अपने क्षेत्र का एकमात्र बाजार है। नगर में चावल की मिलें बहुत सी हैं। यहाँ चमड़े का कारोबार भी होता है। दरी तथा कालीन बनाने का यहाँ का व्यवसाय प्रसिद्ध है। 1901 ई. में यहाँ की जनसंख्या 33,521 थी जो 1951 में बढ़कर 87,213 हो गई थी।1961 ई. में यहाँ की जनसंख्या 1,08,321 थी।[1]



पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हिन्दी विश्वकोश, खण्ड 2 |प्रकाशक: नागरी प्रचारिणी सभा, वाराणसी |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 253 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=एलुरू&oldid=633170" से लिया गया