ऊसर मिट्टी  

ऊसर मिट्टी प्राय: वह होती है, जो कृषि योग्य नहीं होती। यह मिट्टी खेती करने योग्य नहीं होती, क्योंकि यह अनुपजाऊ होती है। किंतु आधुनिक समय में जिप्सम के प्रयोग द्वारा इसे पुन: उपजाऊ बनाया जा सकता है।

  • इसमें सोडियम, पोटेशियम एवं मैग्नीशियम अधिक मात्रा में पाए जाते हैं।
  • धान के पुवाल गोबर की खाद, वर्मी कंपोस्ट का उपयोग करके ऊसर भूमि में उर्वरा शक्ति पैदा की जा सकती है।
  • ऊसर मिट्टी का पी.एच. मान 8.5 से ज़्यादा होता है।
  • इस मिट्टी में विनिमयशील सोडियम की मात्रा 15 प्रतिशत से अधिक होती है।
  • ऐसी भूमि में गर्मियों के दिनों में ऊपरी सतह पर सफ़ेद पर्त बन जाती है।
  • यह सफ़ेद पर्त प्राय: सोडियमके कार्बोनेट तथा बाईकार्बोनेट के लवण होते हैं।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=ऊसर_मिट्टी&oldid=276103" से लिया गया