उपाध्याय  

उपाध्याय (संस्कृत-उप+अधि+इण घञ्) इस शब्द की व्युत्पत्ति इस प्रकार की गई है-'उपेत्य अधीयते अस्मात्‌' जिसके पास जाकर अध्ययन किया जाए, वह उपाध्याय होता है। उपाध्याय ब्राह्मणों के एक वर्ग की संज्ञा भी है। मनुस्मृति के अनुसार वेद के एक भाग एवं वेदांग को वृत्ति लेकर पढ़ानेवाले शिक्षक को उपाध्याय कहते थे। 'एकदेशं तु वेदस्य वेदांगान्यपि वा पुन:। योऽध्यापयति वृत्तयर्थ उपाध्याय: स उच्चते[1] यह आचार्य की अधीनता में शिक्षण कार्य किया करता था। संभवत: एक आचार्य के अधीन दस उपाध्याय शिक्षण कार्य किया करते थे।[2] याज्ञवल्क्य[3], वशिष्ठ[4] और विष्णु[5] के अनुसार भी वृत्ति लेकर पढ़ाना ब्राह्मणों के आदर्श के अनुरूप नहीं समझा जाता था, इसलिए संभवत: उपध्याय के संबंध में नीतिकार ने कहा है-'उपाध्याश्च वैद्यश्च ऋतुकाले वरस्त्रिय:। सूतिका दूतिका नौका कार्यान्ते ते च शष्पवत्‌।'

बौद्ध साहित्य में भी उपाध्याय (उपज्झाय) के संबंध में अनेक निर्देश उपलब्ध हैं। महावग्ग[6] के अनुसार उपसंपन्न भिक्षु को बौद्ध ग्रंथों की शिक्षा उपाध्याय द्वारा दी जाती थी। पढ़ने का प्रार्थनापत्र भी उसी की सेवा में प्रस्तुत किया जाता था।[7] इत्सिंग के विवरण से ज्ञात होता है कि जब उपासक प्र्व्राज्या लेता था, जब उपाध्याय के सम्मुख ही उसे श्रम की दीक्षा दी जाती थी। दीक्षाग्रहण के पश्चात्‌ ही उसे 'त्रिचीवर' भिक्षापात्र और निशीदान (जलपात्र) प्रदान करता था। उपसंपन्न भिक्षु को 'विनय' की शिक्षा उपाध्याय द्वारा ही दी जाती थी। केवल पुरुष ही नहीं, स्त्रियाँ भी उपाध्याय होती थीं। पतंजलि ने उपाध्याया की व्युत्पत्ति इस प्रकार की है-'उपेत्याधीयते अस्या: सा उपाध्याया।'

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. (मनु 2:141)
  2. ('उपाध्यायान्‌ दशाचार्य : मनु 2,146)
  3. (1,35)
  4. (3,21)
  5. (28,2)
  6. (1-31)
  7. (महावग्ग 1.25.7)
  8. हिन्दी विश्वकोश, खण्ड 2 |प्रकाशक: नागरी प्रचारिणी सभा, वाराणसी |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 124 |

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=उपाध्याय&oldid=632507" से लिया गया