इलाहाबाद विश्वविद्यालय  

इलाहाबाद विश्वविद्यालय

इलाहाबाद विश्वविद्यालय भारत के सबसे पुराने विश्वविद्यालयों में चौथा विश्वविद्यालय है। इलाहाबाद विश्वविद्यालय की स्थापना 1887 में की गई थी, भारत के सबसे प्राचीनतम तथा प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों में से एक है। इसे 'राष्ट्रीय महत्व का संस्थान' घोषित किया गया था तथा इलाहाबाद विश्वविद्यालय अधिनियम, 2005 जो 14 जुलाई, 2005 से प्रभावी हुआ है, के अंतर्गत इसे केन्द्रीय विश्वविद्यालय का दर्जा दिया गया।

पूरब में ऑक्सफोर्ड

संयुक्त प्रांत के गवर्नर सर विलियम म्योर ने जब पूरब में ऑक्सफोर्ड को बनाने की इच्छा की थी, उस समय उत्तर भारत में शिक्षा का कोई केंद्र नहीं था। उत्तर भारत की शिक्षा संस्थाओं की संबद्धता कलकत्ता विश्वविद्यालय से थी। 24 मई 1867 को इलाहाबाद में विलियम म्योर ने एक स्वतंत्र महाविद्यालय तथा एक विश्वविद्यालय के लिए सोचा जिसकी योजना सन् 1869 में बनी और इस कार्य के लिए एक कमेटी बनायी गई, प्यारे मोहन बनर्जी इसके अवैतनिक सचिव बने।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=इलाहाबाद_विश्वविद्यालय&oldid=513050" से लिया गया