आनन्द मोहन बोस  

आनन्द मोहन बोस (1847-1906 ई.) अपने समय के प्रमुख जनसेवी थे। मेमनसिंह ज़िले के मध्यवर्गीय हिन्दू परिवार में इनका जन्म हुआ था।

शिक्षा

इनकी शिक्षा प्रेसीडेन्सी कॉलेज कलकत्ता में हुई। 1867 ई. में गणित में प्रथम श्रेणी में स्थान प्राप्त कर इन्होंने 'प्रेमचन्द रायचन्द छात्रवृत्ति' पाई। आनन्द मोहन बोस कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में 1873 ई. में रैंगलर होने वाले प्रथम भारतीय व्यक्ति थे। 1874 ई. में वह बैरिस्टर बनकर स्वदेश लौट आए। भारत लौट आने पर इन्होंने अपनी बहुमुखी प्रतिभा को राजनीतिज्ञ, शिक्षाविद और धार्मिक सुधार के रूप में देश की सेवा में उत्सर्ग कर दिया। वे इण्डियन एसोसियेशन के, जिसकी स्थापना कलकत्ता में 1876 ई. में की गई थी, प्रथम संस्थापक सचिव थे।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

भट्टाचार्य, सच्चिदानन्द भारतीय इतिहास कोश, द्वितीय संस्करण-1989 (हिन्दी), भारत डिस्कवरी पुस्तकालय: उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान, 299।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=आनन्द_मोहन_बोस&oldid=592840" से लिया गया