आदित्यवर्धन  

आदित्यवर्धन यह थानेश्वर के भूतिवंश का राजा था, श्रीकंठ (थानेश्वर) के राजवंश के प्रतिष्ठाता नरवर्धन का पौत्र। आदित्यवर्धन ने मगधराज दामोदर गुप्त की पुत्री महासेना गुप्ता से ब्याहा जिससे वर्धनों की मर्यादा बढ़ी। आदित्यवर्धन के संबंध में इससे अधिक कुछ पता नहीं। उसके बाद उसका पुत्र हर्ष का पिता प्रभाकरवर्धन थानेश्वर का राजा हुआ। विद्वानों का अनुमान है कि आदित्यवर्धन ने छठी स.ई. के अंत में राज किया होगा।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हिन्दी विश्वकोश, खण्ड 1 |प्रकाशक: नागरी प्रचारिणी सभा, वाराणसी |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 369 |

संबंधित लेख

"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=आदित्यवर्धन&oldid=630595" से लिया गया