अल्ला रक्खा ख़ाँ  

अल्ला रक्खा ख़ाँ
अल्ला रक्खा ख़ाँ
पूरा नाम क़ुरैशी अल्ला रक्खा ख़ान
जन्म 29 अप्रॅल, 1919
जन्म भूमि फगवाल, जम्मू
मृत्यु 3 फ़रवरी, 2000
मृत्यु स्थान मुम्बई, महाराष्ट्र
संतान ज़ाकिर हुसैन, फ़ैज़ल क़ुरैशी, तौफ़ीक क़ुरैशी (पुत्र), ख़ुर्शीद औलिया नी क़ुरैशी (पुत्री)
कर्म भूमि भारत
कर्म-क्षेत्र शास्त्रीय संगीत
पुरस्कार-उपाधि पद्म श्री, संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार
प्रसिद्धि तबला वादक
नागरिकता भारतीय
संबंधित लेख ज़ाकिर हुसैन,
अन्य जानकारी भारत के सर्वश्रेष्ठ एकल और तबला वादकों में से एक थे।
अद्यतन‎

अल्ला रक्खा ख़ाँ (अंग्रेज़ी: Alla Rakha Khan, जन्म- 29 अप्रैल, 1919; मृत्यु- 3 फ़रवरी, 2000) सुविख्यात तबला वादक, भारत के सर्वश्रेष्ठ एकल और संगीत वादकों में से एक थे। इनका पूरा नाम पूरा नाम क़ुरैशी अल्ला रक्खा ख़ाँ है। अल्ला रक्खा ख़ाँ अपने को पंजाब घराने का मानते थे। अल्ला रक्खा ख़ाँ के पुत्र का नाम ज़ाकिर हुसैन है जो स्वयं प्रसिद्ध तबला वादक हैं।

आरंभिक जीवन

उस्ताद अल्ला रक्खा ख़ाँ का जन्म 29 अप्रैल, 1919 को भारत के जम्मू शहर के फगवाल नामक जगह पर हुआ था। आरंभ से ही अल्ला रक्खा को तबले की ध्वनि आकर्षित करती थी। बारह वर्ष की अल्प आयु में एक बार अपने चाचा के घर गुरदासपुर गये। वहीं से तबला सीखने के लिए घर छोड़ कर भाग गये। इस से यह पता चलता है कि आपके मन में तबला सीखने की कितनी ललक थी।[1]

संगीत की शिक्षा

अल्ला रक्खा ख़ाँ 12 वर्ष की उम्र से ही तबले के सुर और ताल में माहिर थे। अल्ला रक्खा ख़ाँ घर छोड़ कर उस समय के एक बहुत प्रसिद्ध कलाकार उस्ताद क़ादिर बक्श के पास चले गये। जैसे जौहरी हीरे की परख कर लेता है, वैसे ही उस्ताद क़ादिर बक्श भी आप के अंदर छुपे कलाकार को पहचान गये और आपको अपना शिष्य बना लिया। इस प्रकार आपकी तबले की तालीम विधिवत आरंभ हुई। इसी दौरान आपको गायकी सीखने का भी अवसर मिला। मियां क़ादिर बक्श के कहने पर आपको पटियाला घराने के मशहूर खयाल-गायक आशिक अली ख़ाँ ने रागदारी और आवाज़ लगाने के गुर सिखाये। ऐसा माना जाता था कि बिना गायकी सीखे संगीत की कोई भी शाखा पूर्ण नहीं होती।

गुरु क़ादिर बक्श

बहरहाल, आप लगातार गुरु क़ादिर बक्श के निर्देशन में रियाज़ करते रहे। गुरु के आशीर्वाद और अपनी मेहनत और लगन से आप एक कुशल तबला वादक बन गये। शीघ्र ही आपका नाम सारे भारत में लोकप्रिय हो गया। संगीत जगत् में आपका तबला वादन एक चमत्कार से कम नहीं था। गुरु से आज्ञा पाकर आप तबले के प्रचार प्रसार में जुट गये। अपने वादन के चमत्कार से आपने बडी़-बड़ी संगीत की महफिलों में श्रोताओं का मन मोह लिया। सधे हुए हाथों से जब आप तबले पर थाप मारते थे तो श्रोता भाव विभोर हो जाते थे। दायें और बायें दोनों हाथों का संतुलित प्रयोग आपके तबला वादन की विशेषता थी।[1]

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 1.2 1.3 1.4 तबला नवाज़ उस्ताद अल्लारक्खा ख़ाँ (हिन्दी) knol.google.com। अभिगमन तिथि: 26 जनवरी, 2012।
और पढ़ें
"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=अल्ला_रक्खा_ख़ाँ&oldid=619156" से लिया गया