अल्लकप्प  

अल्लकप्प बौद्ध साहित्य के अनुसार उन आठ स्थानों में है जहाँ के नरेश भगवान बुद्ध के अस्थि अवशेषों को लेने के लिए कुशीनगर आए थे। संभव है यह अलप्पा का ही रूपांतर हो।

  • अल्लकप्प में बुलिय[1] क्षत्रियों की राजधानी थी।
  • यह राज्य वेठदीप या बेतिया[2] के सन्निकट ही रहा होगा क्योंकि धम्मपदटीका[3] में अल्लकप्प के राजा और बेठदीपक नाम के 'बेठदीप' के राजाओं में परस्पर घनिष्ठ संबंध का उल्लेख है।
  • अल्लकप्प की स्थिति लौरियानंदनगढ़ के पास स्थित विस्तृत खण्डहरों के स्थान पर मानी जाती है।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  • ऐतिहासिक स्थानावली | पृष्ठ संख्या= 44-45| विजयेन्द्र कुमार माथुर | वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग | मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार


  1. वृज्जियों की एक शाखा
  2. ज़िला चंपारन, बिहार
  3. हार्वर्ड ओरियंटल सिरीज़ 28 पृष्ठ 24

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=अल्लकप्प&oldid=627296" से लिया गया