अद्धा  

अद्धा भारतीय इतिहास के सल्तनत काल में प्रचलित ताँबे का सिक्का था, जो सुल्तान फ़िरोज़शाह तुग़लक़ द्वारा प्रयोग में लाया गया था।[1]

  • फ़िरोज़शाह तुग़लक़ ने मुद्रा व्यवस्था के अन्तर्गत बड़ी संख्या में ताँबे एवं चाँदी के मिश्रण से निर्मित सिक्के जारी करवाये, जिसे सम्भवतः ‘अद्धा’ एवं ‘मिस्र’ कहा जाता था।
  • उसने ‘शंशगानी’ (6 जीतल का) का नया सिक्का भी चलवाया था।
  • सिक्कों पर अपने नाम के साथ फ़िरोज़शाह ने अपने पुत्र अथवा उत्तराधिकारी 'फ़तह ख़ाँ' का नाम अंकित करवाया।
  • फ़िरोज़शाह तुग़लक़ ने अपने को ख़लीफ़ा का नाइब पुकारा तथा सिक्कों पर ख़लीफ़ा का नाम अंकित किया।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. यूजीसी इतिहास, पृ.सं. 145

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=अद्धा&oldid=592372" से लिया गया