अज  

Disamb2.jpg अज एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- अज (बहुविकल्पी)

परंपरा का पालन

इन्हें भी देखें: सूर्यवंश वृक्ष राजा रघु ने समय बीतने पर मंत्रियों और कुलगुरु से मंत्रणा करके अपने पुत्र अज को सारा राजपाट सौंप दिया और स्वयं वन के लिए प्रस्थान किया। सूर्य वंशी राजाओं का यह नियम था कि जब पुत्र कुल का भार सम्हालने योग्य हो जाए तो वह उस पर सारा राज्य भार सौंपकर स्वयं वन को चल देते हैं। रघु ने भी उसी परंपरा का पालन किया। अज का विवहा हो जाने पर उसके पिता रघु ने उसको राज्यलक्ष्मी भी सौंप दी और वह स्वयं वन को चले गए। महार्षि वसिष्ठ ने अज का राज्यभिषेक किया। अयोध्या की प्रजा ने अज को युवा रघु रूप में देखा और उसका उसी प्रकार मान-सम्मान किया।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=अज&oldid=547810" से लिया गया